play protect image

Updated : Nov 02, 2018 in मोबाइल ऐप

गूगल प्ले प्रोटेक्ट क्या है? और ये कैसे काम करता है आइए जाने!

मोबाइल फोन में फेक ऐप होने से सही तरह काम न करना!

आपका स्मार्टफोन हर तरफ से सुरक्षित रहे, उसमे कोई भी वायरस न हो और न ही fake apps हो।

fake apps

अगर आपका फोन safe नहीं है तो आप hackers के हमले का शिकार हो सकते हैं, और  यूजर्स सायबर क्रिमिनल के निशाने पर भी आ सकते हैं|

गूगल दवारा प्ले प्रोटेक्ट लांच करना:-

इस परेशानी से निजात पाने के लिए गूगल ने I/0 2017 डेवलपर कॉन्फ्रेंस जो मई में आयोजित की थी, और गूगल ने प्ले प्रोटेक्ट टूल पेश किया था।

play protect launch

जो सिक्योरिटी टूल एंड्राइड यूजर्स के स्मारर्टफोन को सिक्योर (सिक्योरटी) करने के लिए ही पेश हुआ है। ये टूल आपके स्मार्टफोन में वायरस और हैकर्स से सुरक्षा प्रदान करवाता है। गूगल ने इस सर्विस को सभी एंड्रायड डिवाइस के लिए रोलआउट भी कर दिया है।

प्ले प्रोटेक्ट है क्या ?

यह गूगल दवारा लांच किया गया एक नया सिक्योरिटी सिस्टम है जो किसी भी एंड्रायड डिवाइस को automatically scan करता है और fake apps से भी वचाता है। अगर आप कोई app download कर रहे हैं तो ये पहली इसकी  जांच करेगा, अगर जांच के दोरान app fake निकलता है तो ये उस पर action लेगा। इस app को गूगल के सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स ने ढूंढा था। जो आने वाले समय में आपके फोन के लिए “कवच” की तरह काम करेगा।

गूगल प्ले स्टोर से download करें।

  • इस ऐप को आप गूगल प्ले स्टोर से download कर

play protect

सकते हो।

  • Download के वाद आप rejoin पे click करें।
  • अब आप अपने मोबाइल फोन की setting में जाके आपको Google पे click करना है।
  • Next – आपको security में जाके verify apps पे click करना है।
  • अब आपको scan device for security threats को on करना है।
  • फिर Google play protect regularly checks your apps and device for harmful behavior – वाले option में जाके आपको learn more पे क्लिक करना है।

इस तरह ये ऐप आपके मोबाइल फोन की सभी ऐप्स को स्केन करेगा। अगर आपके मोबाइल फोन में एंटीवायरस है तो आप उसे ह्टा दें, क्योंकि ये ऐप आपके फोन में अन्वाटेड फाइल्स, फेक ऐप्स को डिलीट कर आपके फोन की स्पीड को तेज कर देगा। जिससे आपका फोन न तो हैंग होगा और न ही उसकी स्पीड slow होगा।

ये ऐप किस तरह काम करता है!

गूगल अपने प्ले स्टोर पर मौजूद हर तरह की ऐप की privacy और security  

privacy

की जांच करता है। इसके लिए यह हर कैटेगरी के लिए peer ग्रुप बनाता है। तो ऐसे में अगर कोई ऐप यूजर से किसी भी बात की permission  मांगती है तो उसे गूगल द्वारा हरी झंडी दे दी जाती है। गूगल के विशेषज्ञों ने यह महसूस किया कि कैटेगरी-बेस्ड peer ग्रुप में बदलाव करना अनिवार्य नहीं हैं। । जिससे यह पता नहीं चल पाता है कि समान कैटेगरी में ऐप्स के प्रकार कितने हैं। इसलिए गूगल ने प्ले प्रोटेक्ट लॉन्च किया ताकि इस बात की गहन जांच हो सके कि समान कैटेगरी में ऐप्स के कितने प्रकार हो सकते हैं।

इस ऐप के इस्तेमाल से डाटा secure रहता है।

अगर किसी व्यकित का स्मार्टफोन गुम हो जाए तो ये ऐप यूजर को स्मार्टफोन लॉक करने और या उसका डाटा डिलीट करने का option देगा।

  • इसके लिए आपको google open करना है और टाइप करना है – Android Device Manager ।
  • इसके बाद जो पहला option आएगा उसे open कर अपना Gmail Account login

gmail account login

करना है।

  • यहां पे आपको अपनी डिवाइस की लोकेशन का पता चल जाएगा।
  • साथ ही आप फोन का डाटा डिलीट भी कर सकते हैं और उसे lock

lock

भी कर सकते हैं जिससे कोई भी फोन को open नहीं कर सकता।

इस तरह उपर दिए गए टिप्स को पालन कर आपका फोन secure और safe रहता है। इस ऐप को download कर आपका फोन कभी भी हैंग नही होगा और आपका फोन फेक ऐप्स से भी वचा रहेगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!