Old Pension vs New पेंशन योजना 2022 | OPS vs NPS मे बेहतर कौन | आवेदन प्रक्रिया

|| Old Pension vs New Pension | OPS vs NPS Benefits | What is the difference between the NPS and OPS | Registration || कई राज्य पिछली पेंशन प्रणाली (OPS) को महत्व दे रहे हैं। हाल ही की रिपोर्टों के अनुसार पंजाब सरकार दवारा अपने कार्यबल के लिए ओपीएस को बहाल करने की संभावना को खत्म कर रही है। अगर इस योजना को लागू किया जाता है, तो पंजाब ओपीएस का उपयोग करने वाला संघ का चौथा राज्य बन जाएगा। ऐसे मे राजस्थान, छत्तीसगढ़ और झारखंड सहित कई भारतीय राज्यों ने वास्तव में पिछली पेंशन योजना को लागू कर दिया है। आज इस लेख के दवारा हम पुरानी पेंशन बनाम नई पेंशन योजना के वारे मे और उससे मिलने वाले लाभों के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे| तो आइए जानते हैं – Old Pension vs New Pension Scheme के वारे मे|

Old Pension vs New Pension

 

Old Pension vs New Pension Yojana

कई राज्यों ने पिछली पेंशन प्रणाली को वापस लाने मे अपनी रुचि दिखाई है। जिसमे से राजस्थान, छत्तीसगढ़ और झारखंड राज्यों मे इस योजना को फिर से शुरू करने की घोषणा की गई है| अगर पिछली पेंशन योजना की वात करें तो सेवानिवृत्ति के बाद गारंटीड आय की पेशकश की गई थी। जिसके लिए दिसंबर 2003 में, भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार और अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधान मंत्री के रूप में, ओपीएस को समाप्त कर दिया गया था। उसके बाद 1 अप्रैल 2004 से इसकी जगह नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) ने ले ली। व्यापक अर्थों में, एनपीएस और पिछली पेंशन प्रणाली दोनों को पेंशन योजनाओं के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। पर ये दोनों चीजें समान नहीं हैं। अब हम जानेगे – OPS और NPS के वारे मे|

योजना का अवलोकन

योजना का नाम पुरानी पेंशन बनाम नई पेंशन योजना
किसके दवारा शुरू की गई भारत सरकार दवारा
लाभार्थी देश के नागरिक
प्रदान की जाने वाली सहायता

NPS या OPS के तहत मिलने वाले लाभों के वारे मे लोगों को जागरुक करना|

आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन

उद्देश्य

देश के नागरिको को NPS या OPS मे से जो योजना वेहतर है, उसके वारे मे उन्हे प्रेरित करना है|

पात्रता

  • आवेदक को देश का स्थायी निवासी होना चाहिए|
  • योजना का लाभ लाभार्थीयों को उनकी योग्यता के आधार पर मिलेगा|
  • केवल पात्र लाभार्थी ही OPS या NPS का लाभ लेने के लिए पात्र होंगे|
  • जो आवेदक योजना के अंतर्गत वताए गए दिशा-निर्देशों का पालन करेंगे, केवल वे ही योजना का लाभ ले सकेंगे|
  • लाभार्थी की आयु या अन्य जानकारी नोटिफिकेशन से प्राप्त की जा सकती है|

Old Pension vs New Pension Scheme

पुरानी पेंशन योजना (OPS) क्या है

  • इस स्कीम में रिटायरमेंट के समय कर्मचारी के वेतन की आधी राशि पेंशन के रूप में दी जाती है।
  • पुरानी स्कीम में जनरल प्रोविडेंट फंड यानी GPF का प्रावधान है।
  • इस स्कीम में 20 लाख रुपये तक ग्रेच्युटी की रकम मिलती है।
  • पुरानी पेंशन स्कीम में भुगतान सरकार की ट्रेजरी के माध्यम से होता है।
  • रिटायर्ड कर्मचारी की मृत्यु होने पर उसके परिजनों को पेंशन की राशि मिलती है।
  • पुरानी पेंशन स्कीम में पेंशन के लिए कर्मचारी के वेतन से कोई पैसा नहीं कटता है।
  • इसमें छह महीने बाद मिलने वाले DA का प्रावधान है।

नई पेंशन स्कीम (NPS)

  • नई पेंशन स्कीम (NPS) में कर्मचारी की बेसिक सैलरी+ डीए का 10 फीसद हिस्सा कटता है।
  • NPS शेयर बाजार पर आधारित है। इसलिए यह पूरी तरह सुरक्षित नहीं है।
  • इस स्कीम में रिटायरमेंट पर पेंशन पाने के लिए NPS फंड का 40% निवेश करना होता है।
  • यहां रिटायरमेंट के बाद निश्चित पेंशन की गारंटी नहीं होती है।
  • NPS शेयर बाजार पर आधारित है, इसलिए यहां टैक्स का भी प्रावधान है।
  • इसमें छह महीने बाद मिलने वाले DA का प्रावधान नहीं है।

NPS और OPS में अंतर

  • पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारियों के लिए जीपीएफ (GPF) की सुविधा मिलती है, परन्तु नई पेंशन योजना में जीपीएफ की सुविधा नही है |
  • OPS में कर्मचारी को पेंशन देने के लिए उनके वेतन से किसी प्रकार की कटौती नहीं की जाती है, जबकि NPS में सैलरी से हर महीने 10 प्रतिशत की कटौती निर्धारित है |
  • पुरानी पेंशन योजना में कर्मचारी के सेवानिवृत्त होनें पर अंतिम वेतन का 50 फीसदी मिलने की गारंटी है, जबकि नई स्कीम में इस बात की कोई पुष्टि नही है कि आपको कितनी पेंशन मिलेगी | क्योंकि यह पूर्ण रूप से बीमा कम्पनी और शेयर मार्केट पर निर्भर है |   
  • पुरानी पेंशन सरकार द्वारा दी जाती है जबकि नई स्कीम में कर्मचारी पेंशन के लिए बीमा कम्पनी पर निर्भर है |
  • किसी प्रकार के विवाद की स्थिति में आप सरकार से लड़ सकते है, जबकि नई योजना में कर्मचारी को बीमा कम्पनी से लड़ना होगा |
  • OPS में यदि कर्मचारी की मृत्यु नौकरी के दौरान होती है, तो उन्हें डेथ ग्रेच्युटी 20 लाख रुपये मिलते है, जबकि NPS में डेथ ग्रेच्युटी जैसी कोई सुविधा नही है |
  • पुरानी पेंशन में आने वाले लोंगों को सेवाकाल में मृत्यु होने पर उनके परिवार को पारिवारिक पेंशन और नौकरी की सुविधा मिलती है, जबकि न्यू पेंशन स्कीम में पेंशन और नौकरी को समाप्त कर दिया गया है |
  • पुरानी स्कीम में पेंशनर को प्रत्येक 6 माह के पश्चात महँगाई तथा वेतन आयोगों का लाभ भी मिलता है, जबकि नई योजना में एक निर्धारित पेंशन ही मिलेगी |
  • OPS योजना में पेंशनर जी0 पी0 एफ0 से ऋण लेने की सुविधा उपलब्ध है, जबकि NPS में लोन की कोई सुविधा नही है |
  • ओल्ड पेंशन स्कीम में रिटायरमेंट के दौरान कर्मचारी को कोई टैक्स नही देना पड़ता है परन्तु NPS स्कीम में रिटायरमेंट के दौरान सिर्फ 60% धनराशि मिलेगी और उस पर टैक्स लगेगा |
  • पुरानी पेंशन योजना में GPF पर एक निश्चित ब्याज दर मिलती है, लेकिन नई पेंशन योजना पूर्ण रूप से शेयर बाजार पर आधारित है |

नई पेंशन योजना बनाम पुरानी पेंशन योजना मे बेहतर कौन है

नई पेंशन योजना (NPS) पुरानी पेंशन योजना (OPS)
NPS एक निवेश-आधारित पेंशन योजना है, जो उच्च रिटर्न के लिए पैसे बाजार में निवेश करने की सुविधा देती है| OPS एक गैर निवेश आधारित पेंशन योजना है।
NPS मे रिटर्न निश्चित नहीं है। इसमे रोजगार के दौरान ग्राहक का परिसंपत्ति आवंटन रिटर्न निर्धारित करता 

है।

पिछली पेंशन योजना गारंटी देती है कि सरकार मासिक भुगतान को सेवानिवृत्त कर सके|

सरकारी कर्मचारी और निजी कर्मचारी NPS में शामिल हो सकते हैं। इसमे केवल सरकारी कर्मचारी ही शामिल होंगे|
इस योजना पर टैक्स लगेगा| OPS के तहत कोई कर नहीं होगा|
कर्मचारी अपने वेतन से NPS में योगदान कर सकते हैं। जिसमे बाजार से जुड़े उपकरणों का उपयोग किया जाता है। इस योजना मे अंतिम वेतन का 50% पेंशन बन जाती है|
इसमें जोखिम शामिल हैं| ये योजना जोखिम मुक्त है|

इस योजना मे रिटायरमेंट के बाद बड़ा रिटर्न मिलता है लेकिन कोई गारंटी उम्मीद से कम रिटर्न नहीं दे सकती है|

आपके पास हमेशा वही रिटर्न होगा, जो  पिछले वेतन पर निर्भर करता है।

कर्मचारी अपने वेतन से अपने भविष्य के लिए मासिक योगदान दे  सकते हैं|

इस योजना मे कर्मचारियों को अपने वेतन से कुछ भी निवेश करने की आवश्यकता नहीं है|
सरकार के लिए योजनाएं स्थिर और लाभकारी हैं। चूंकि पैसा कर्मचारी द्वारा उसकी कार्य अवधि के दौरान पहले ही निवेश कर दिया जाता है।

यह योजना सरकार के लिए अस्थिर है, जिसमे सेवानिवृत्त लोगों की जीवन  प्रत्याशा बढ़ जाती है और ऐसे मे सरकार के लिए इस तरह की योजनाएं चलाना महंगा है।

Key Points Of NPS & OPS  

नई पेंशन योजना (NPS)

  • NPS पारदर्शी और लागत प्रभावी प्रणाली है जिसमें पेंशन के अंशदन का निवेश पेंशन निधि योजनाओं में किया जाता है और कर्मचारी दैनिक आधार पर निवेश का मूल्य जान सकते हैं।
  • सभीअभिदाताओं को अपने नोडल कार्यालय में खाता खोलना होता है और एक स्‍थाय सेवा‍ निवृत्ति खाता संख्या (PRAN) लेना होता है।
  • प्रत्येक कर्मचारी को एक विशिष्‍ट संख्या से पहचाना जाता है और उसकी एक पृथक PRAN होती है जो अंतरण योग्य है, अर्थात् यह कर्मचारी के किसी अन्‍य कार्यालय में स्‍थानांतरित होने पर भी समान बनी रहती है।
  • NPS का विनियमन पारदर्शी निवेश मानकों के साथ PFRDA- बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं| जिसमे निधि प्रबंधक की नियमित निगरानी और निष्‍पादन समीक्षा के साथ की जाती है|

पुरानी पेंशन योजना (OPS)

  • OPS में कर्मचारी को पेंशन देने के लिए उनके वेतन से किसी प्रकार की कटौती नहीं की जाती है|
  • OPS में सरकारी कर्मचारी को उसकी अंतिम सैलरी के आधार पर पेंशन मिलती है| 
  • पुरानी पेंशन योजना में कर्मचारी के सेवानिवृत्त होने पर अंतिम वेतन का 50 फीसदी मिलने की गारंटी है|
  • पुरानी पेंशन सरकार द्वारा दी जाती है|   
  • पुरानी स्कीम में पेंशनर को प्रत्येक 6 माह के पश्चात महँगाई तथा वेतन आयोगों का लाभ भी मिलता है|
  • पुरानी पेंशन योजना में GPF पर एक निश्चित ब्याज दर मिलती है|      

आवश्यक दस्तावेज   

  • आधार कार्ड
  • स्थायी प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो
  • मोबाइल नम्वर

नई पेंशन योजना और पुरानी पेंशन योजना के लिए कैसे करें आवेदन

  • सवसे पहले पात्र लाभार्थी को आधिकारिक वेबसाइट पे जाना होगा|
  • उसके बाद आपको योजना से सवंधित लिंक पे किलक करना है|
  • अब आपके सामने आवेदन फॉर्म खुल जाएगा|
  • इसके बाद आपको इस फॉर्म मे पुछी गई सारी जानकारी दर्ज करनी है, और जरूरी दस्तावेज अपलोड करने हैं|
  • सारी प्रक्रिया हो जाने के बाद आपको अंत मे Submit के बटन पे किलक कर देना है|     

आशा करता हूँ आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी| आर्टीकल अच्छा लगे तो कॉमेट और लाइक जरूर करे| 

Last Updated on October 21, 2022 by Abinash

error: Content is protected !!