Updated : Mar 17, 2020 in Yojana

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना | पूरी जानकारी | केंद्र खोलने के लिए कैसे करें आवेदन

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना | Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojana

 

देश में गरीब और जरुरतमदों के लिए सस्ती किमतों पर गुणवत्ता वाली दवाइयां उपलव्ध करवाने के लिए प्रधानमंत्री जन औषधि योजना को शुरु किया गया है। इस योजना के तहत लोगों को सस्ती दवाईयां दी जाएगी। ये दवाईयां सरकार द्वारा खोले गए किसी भी ‘जन औषधि केंद्र’ से आसानी से प्राप्त की जा सकती हैं। इस योजना से स्वास्थ्य सेवा में होने वाले खर्च को कम किया जाएगा और आर्थिक रूप से कमजोर परिवार भी सभी तरह की दवाईयां सस्ते दामों पर ले सकेगे। जबिक जेनेरिक दवाई लेने पर आपको ये दवाई ब्रांड वाली दवाईओं से 60 से 70% तक कम कीमत पर मिलेगी। जेनेरिक दवाई और ब्रांड वाली दवाइयों में कोई भी अंतर नहीं होता है। ये दोनों दवाईयां एक जैसी होती हैं, बस फर्क इनके दामों में ही होता है। उदाहरण के तौर पर अगर आप अच्छे ब्रांड की कोई दवाई लेते हैं, तो वे दवाई आपको 200 रूपए की मिलती है, वहीं जेनेरिक दवाई आपको 100/- रूपए तक मिल जाएगी। यानी काम दोनों दवाइयों का एक जैसे ही होगा बस उनके दामों में ही अंतर होगा। जिससे जनता को जेनेरिक दवाइयों के प्रति जागरूक किया जाएगा। सरकार जन औषधि केंद्र खोलने के लिए लाभार्थी को वित्तिय सहायता उपलव्ध करवा रही है, जिससे इच्छुक आवेदक इस योजना का लाभ ले सकता है और अपनी इनकम को वढा सकता है। औषधि केंद्र खोलने के लिए लाभार्थी को करीब 2.5 लाख तक का अनुदान सरकार दवारा उपलव्ध करवाया जाएगा। इसके अलावा SC/ ST एवं दिव्यांगों को औषधि केन्द्र खोलने पर 50000 तक की दवा एडवांस में दी जाएगी। जिससे वेरोजगार लोगों के लिए भी रोजगार उपलब्ध होगा। इन केंद्रो का विस्तार करने के लिए आने वाले समय में इनकी संख्या और बढाई जाएगी। ताकि देश में सभी लोगों के लिए गुणवत्ता और कम किमत में दवाईयां उपलव्ध हो सके और देश में नकली दवाइयां वेचने पर रोक लगाई जा सके। जिससे लोगों को अपनी सेहत के साथ कोई समझोता नहीं करना पडेगा।     

  

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र कौन खोल सकता है | Who can open Pradhan Mantri Jan Aushadhi Center

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के मुताबिक कोई भी व्यक्ति ये केंद्र खोल सकता है, इसके लिए सरकार द्वारा 01 साल तक लाभार्थी को इनकम दी जाएगी और साल में होने वाली सेल की 10% राशि सरकार की तरफ से इन्सेंटिव के तौर पर लाभार्थी को मिलेगी। अगर कोई नक्सली प्रभावित जगह पर ये स्टोर खोलता है तो उसे 15% तक मार्जिन दिया जाएगा। वहीं इन्सेंटिव राशि नक्सल प्रभावित इलाके में 15000/- रुपए निर्धारित की गई है। जन औषधि स्टोर मालिको के लिए दवाइयां MRP से 16 % कम में दी जाएँगी। जहाँ से मालिक सीधे कमाई कर सकते हैं।    

उद्देश्य | An Objective

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना का मुख्य उद्देश्य देश में सभी वर्ग के लोगों को अच्छी और कम कीमत में दवाइयां उपलव्ध करवाना है।

पात्रता | Eligibility

  • देश के स्थायी निवासी
  • सभी वर्ग़ के लोग
  • वेरोजगार और नौकरी पाने वाले लाभार्थी
  • दवाइयों की कीमत अधिक होना और दवाइयों की गुणवत्ता का आभाव

योग्यता | Ability

  • आवेदक चिक्त्सक या मेडिकल स्टोर में कार्यरत होना चाहिए।
  • लाभार्थी पंजीकृत चिकित्सा व्यवसायी होना चाहिए।
  • लाभार्थी की आयु सीमा कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए।
  • आवेदक के पास बी फार्मा / डी फार्मा की डिग्री होनी चाहिए।
  • आवेदक के पास कम से कम 120 वर्ग फीट क्षेत्रफल का स्वयं या किराए का स्थान होना चाहिए।

महत्वपूर्ण दस्तावेज | Important Documents

  • आधार कार्ड
  • स्थायी प्रमाण पत्र
  • शैक्षिक योग्यता दस्तावेज
  • जाति प्रमाण पत्र
  • मेडिकल दस्तावेज
  • जमीनी दस्तावेज
  • बैंक खाता
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नम्वर

लाभ | Benefits 

  • प्रधानमंत्री जन औषधि योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी को सही और कम दाम में दवाइयां उपलव्ध करवाई जाएगी।
  • इस योजना का लाभ सभी वर्गों के लोगों को मिलेगा।
  • इस योजना के लिए जेनेरिक दवाईयां खरीदने पर जोर दिया गया है।
  • इस योजना के लिए लाभार्थी को प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने पर सरकार दवारा वित्तिय सहायता उपलव्ध करवाई जाएगी।
  • इस योजना के लिए दी जाने वाली राशी लाभार्थी के बैंक खाते में स्थानातरित की जाएगी।
  • इस योजना से लाभार्थी का आर्थिक पक्ष मजवूत होगा।
  • इस योजना के लिए लाभार्थी को दवाइयां वेचने और विजनेस की जानकारी होनी चाहिए।
  • जन औषधि केंद्र खुलने से वेरोजगार लोगों के लिए रोजगार के अवसर वढेगें।
  • इस योजना का विस्तार करने के लिए पूरे देश में जन औषधि केंद्र खोले जाएगें।
  • देश के 34 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 4200 जन औषधि केंद्र क्रियाशील हैं।
  • इस योजना के लिए फर्नीचर और फिक्स्चर की 1 लाख प्रतिपूर्ति की जाएगी।
  • 1 लाख रुपये शुरुआत में मुफ्त दवाओं के माध्यम से दिए जाएगें।
  • कंप्यूटर, इंटरनेट, प्रिंटर, आदि के लिए प्रतिपूर्ति के रूप में 50 लाख रु लाभार्थी को मिलेगें।
  • इस योजना से दवा की प्रिंट कीमत पर 20% तक का मुनाफा लाभार्थी को मिलेगा।
  • इस योजना के लिए 12 महीने की बिक्री करने पर लाभार्थी को 10% अतिरिक्त इंसेंटिव मिलेगा। जो करीब 10000/- रूपये हर महीने होगा।
  • उत्तर पूर्वी राज्यो, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में इंसेंटिव 15% हो सकता है।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए कैसे करें आवेदन | How to apply for opening Pradhan Mantri Jan Aushadhi Center 

ऑनलाइन आवेदन | Online apply

  • यहां आपको दी गई सारी जानकारी भरनी होगी।
  • अब आपको सबमिट बटन पे किल्क कर देना है।
  • यहां किल्क करते ही आपके दवारा प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर दिया जाएगा।

ऑफलाइन आवेदन | Offline Apply

  • प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए लाभार्थी अधिकारिक वेव्साइट पे जाएं।
  • अब आपको इस योजना का आवेदन फार्म डॉउनलोड करना है। 
  • उसके वाद आपको इस फार्म का प्रिंट आउट लेना है।
  • अब आपको इस फार्म में दी गई सारी जानकारी भरनी है।
  • उसके वाद दस्तावेज अटैच करने हैं।
  • अब आपको ये फार्म BPPI कार्यालय में जमा करवाने हैं।
  • फार्म जमा करवाने के वाद लाभार्थी को इस योजना का लाभ प्राप्त हो जाएगा।

महत्वपूर्ण डॉउनलोड | Important Download

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!