Dec 21, 2020 Yojana

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (PMMSY) | कैसे करें आवेदन | पूरी जानकारी

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना | PM Matsya Sampada Yojana | मत्स्य संपदा योजना |Matsya Sampada Scheme | लाभ / पात्रता / उद्देश्य / विशेषताएं | How to apply

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दवारा मछली पालन के काम में लगे लाखों लोगों को रोजगार से जोडने और देश की आर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए मत्स्य संपदा योजना को लागु किया है। इससे मछली का उत्पादन व्यापक स्तर पर होगा। क्या है ये योजना और कैसे मिलेगा लाभ। इसके लिए आपको ये आर्टीकल अंंत तक पढना होगा। तो आइए जानते हैं – प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के वारे मेंं।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना | Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana

प्रधानमंत्री मोदी जी दवारा रोजगार उपलव्ध करवाने और किसानो की सिथति को वेहतर वनाने के लिए मत्स्य संपदा योजना को शुरु किया गया है। जिसकी घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण दवारा 15 मई 2020 को की गई थी। इस योजना के लिए 20,000 करोड रुपये खर्च किए जाएगें। जिससे लगभग 55 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा और निर्यात दोगुना होकर 1 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा। इसके अलावा 11 हजार करोड़ रुपए समुद्री मत्स्य पालन और 9 हजार करोड़ रुपए इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने के लिए खर्च किए जाएंगे। जिससे अगले 05 साल में मत्स्य उत्पादन 70 लाख टन तक बढ़ेगा  जलीय क्षेत्रों से संबंध रखने वाले और जलीय कृषि का कार्य करने वाले या इसके लिए इच्छुक व्यक्ति ही इस योजना के लिए पात्र होंगे। जिसमे समुद्री तूफान,बाढ़, चक्रवात जैसी किसी प्राकृतिक आपदा का बुरी तरह से ग्रसित मछुआरों को इसका फायदा मिलेगा। मछली पालने वाले किसानों को भी आसानी से3 लाख रुपये का लोन मिल सकेगा। मछलीपालन को सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड से जोड़ दिया है। इस कार्ड के माध्यम से किसान मछली, झींगा मछलियों के पालन कर सकते है। किसान क्रेडिट कार्ड धारक 4 फीसदी ब्याज दर पर 3 लाख रुपये तक का कर्ज ले सकते हैं। वहीं समय पर लोन का भुगतान करने परब्याज में अलग से छूट दी जाती है। इस योजना से मजबूत मत्सय प्रंबधन ढांचे की स्थापना होगी। जिससे पैदावार प्रंबधन और गुणवत्ता नियंत्रण सहित मुल्य श्रृंखला को मजबूत करने के लिए गंभीर खामियों को दूर किया जाएगा।

 

उद्देश्य | An Objective

प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना का मुख्य उद्देश्‍य कृषि न्‍यूनता पूर्ण करना, प्रसंस्‍करण का आधुनिकीकरण करना और कृषि के दौरान संसाधनों में होने वाले अनावश्यक नुकसान को कम करना है।

पात्रता | Eligibility

  • भारत देश के स्थायी निवासी
  • जलीय जीवों की खेती करने वाले लोग
  • कोरोना वायरस/ प्राकृतिक आपदा से पीड़ित
  • जलीय कृषि करने वाले लोग

महत्वपूर्ण दस्तावेज | Important Documents

  • आधार कार्ड
  • स्थाई निवासी प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता
  • तथा मछली पालन का कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नम्वर

किन क्षेत्रों में होगा फोकस | Which areas will be the focus

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना से जिन क्षेत्रों में फोकस होगा वह इस प्रकार हैं –

  • इनलैंड,
  • हिमालय क्षेत्र,
  • पूर्वोत्तर
  • और एस्पिरेशनल जिले

विशेषताएं | Features

  • जलीय क्षेत्र को बढ़ावा देना
  • मछली पालन को प्रोत्साहन देना
  • मछुआरों को ऋण की सुविधा उपलव्ध करवाना    
  • शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मछली पालन से रोजगार और आय के लिए बेहतर अवसर
  • वित्तीय सहायता
  • बीमा कवरेज
  • नये विभाग का निर्माण

वर्गीकृत श्रेणियाँ | Classified Categories

  • उत्पादन और उत्पादकता की क्षमता को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित करना |
  • अवसंरचना और उत्पादन बाद प्रंबधन का निर्माण करना |
  • मत्स्य पालन प्रबंधन और नियामक फ्रेमवर्क तैयार करना |

योजना का कार्यान्वयन | Plan implementation

इस योजना में 100% वित्तीय जरुरतों की पूर्ति केन्द्र सरकार की ओर से की जाएगी | जिसमें लाभार्थी वर्ग से जुडी गतिविधियों को राष्ट्रीय मत्स्य विकास बोर्ड सहित केन्द्र सरकार दवारा किया जाएगा| इसमें सामान्य लाभार्थियों वाली परियोजना का 40% जबकि अनुसूचित जाति और जनजाति तथा महिलाओं से जुडी परियोजना का 60% वित्त पोषण केन्द्र सरकार करेगी | जविक पूर्वोत्तर तथा हिमालयी क्षेत्र वाले राज्यों में लागू होने पर 90% खर्च केन्द्र सरकार और 10% खर्च राज्य सरकार दवारा उठाया जाएगा | अगर यह योजना देश में अन्य राज्यों में शुरू की जाती है तो केन्द्र और संबधित राज्यों की हिस्सेदारी लगभग 60 और 40% की होगी | इस योजना में केन्द्र शासित प्रदेशों में लागू होने पर पूरा का पूरा खर्च केंद्र सरकार दवारा वहन किया जाएगा|

लाभ | Benefits

  • भारत 47,000 करोड़ रुपये से अधिक के निर्यात के साथ दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मत्स्य उत्पादक है।
  • पिछले पांच वर्षों में 6 से 10 प्रतिशत की वृद्धि दर के साथ मत्स्य पालन देश का सबसे बड़ा कृषि निर्यात है।
  • इस योजना से तटीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की बड़ी संख्या के लिए बेहतर मानक और जीवन स्तर में सुधार होगा।
  • प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना से जलीय क्षेत्रों में व्यापार को बढ़ावा मिलेगा।
  • इस योजना से 55 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा।
  • इस योजना से 9 हजार करोड़ रुपए का इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा।
  • इस योजना से 5 साल में 70 लाख टन का अतिरिक्त मछली उत्पादन होगा।
  • मत्स्य निर्यात दोगुना होगा।
  • इससे वैल्यू चेन में मौजूद खामियों को दूर किया जाएगा।
  • इस योजना को सुचारु रुप से चलाने के लिए 20 हजार करोड रुपये खर्च किए गए हैं।
  • इससे मत्स्य व्यवसाय को कृषि में भी जोड़ा जाएगा।
  • इससे मछुआरों और किसानों का आर्थिक पक्ष मजवूत होगा।

 

लाभार्थी | Beneficiaries

  • मछुआरे
  • मछली किसान
  • मछली का काम करनेवाला
  • मछली बेचने वाले
  • एससी / एसटी / महिला / अलग-थलग व्यक्ति
  • मत्स्य सहकारी समितियाँ / संघ
  • FPO
  • मत्स्य विकास निगम
  • स्वयं सहायता समूह (SHG) / संयुक्त देयता समूह (JLG)
  • व्यक्तिगत व्यवसायी

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के लिए कैसे करें आवेदन | How to apply for Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana

  • प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के लिए आवेदन करने के लिए लाभार्थी को थोडा इंतजार करना होगा।
  • अभी योजना की शुरुआत की गई है।
  • जब आवेदन प्रक्रिया शुरु की जाएगी, तब लाभार्थी घर बैठे ही योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!