Updated : May 13, 2020 in Yojana

[COVID-19] प्रधानमंत्री विशेष आर्थिक पैकेज योजना | कैसे मिलेगा लाभ | पूरी जानकारी

आर्थिक पैकेज योजना | Objective / Eligibility / Benefits | आर्थिक पैकेज किसके लिए है | Resolve of self-reliant India | महत्वपूर्ण क्षेत्र | PM  Special Economic Package Scheme

आत्म-निर्भर भारत अभियान को नई दिशा देने और कोरोना संकट के समय में सभी वर्ग को राहत देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा की है। क्या है ये योजना और कैसे मिलेगा इसका लाभ्। आइए जानते हैं।

प्रधानमंत्री विशेष आर्थिक पैकेज योजना | Prime Minister Special Economic Package Scheme

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दवारा कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन से प्रभावित लोगों एवं उद्योगों के लिए एक विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा 12 मई 2020 को की है। देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस पैकेज का एलान किया गया है। जिससे हर वर्ग को राहत मिलेगी। इस पैकेज से देश के विभिन्न वर्गों को, आर्थिक व्यवस्था की कड़ियों को, 20 लाख करोड़ रुपये का संबल मिलेगा। 20 लाख करोड़ रुपये का ये पैकेज, 2020 में देश की विकास यात्रा को, आत्मनिर्भर भारत अभियान को एक नई गति प्रदान करेगा। आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को सिद्ध करने के लिए, इस पैकेज में लैंड, लेबर, लिक्विडिटी  और लॉ, आदि सभी पर बल दिया गया है। ये पैकेज भारत की GDP का 10% है। वैश्विक संकट के दौर में कई देशों ने इसी तरह के विशेष पैकेज का एलान किया है और अर्थव्यवस्था के लिए बड़े राहत पैकेज की घोषणा की है। इन देशों में जापान का स्थान पहले नंबर पर है जिसने कोरोना संकट के बीच अपनी जीडीपी का 21% बजट इसमें लगाया है। प्रधानमंत्री आर्थिक राहत पैकेज में सभी सेक्टरों की दक्षता बढ़ेगी और गुणवत्ता भी सुनिश्चित होगी |जिससे सरकार द्वारा चुने गए सभी लाभार्थियों को सबसे बड़ी सहायता राशी आर्थिक पैकेज के रूप प्रदान की जाएगी |केंद्र सरकार की इस मदद से देश नई ऊचाइयों को हासिल करेगा|

उद्देश्य | An Objective

प्रधानमंत्री विशेष आर्थिक पैकज योजना का मुख्य उद्देश्य आत्म-निर्भर भारत अभियान को एक नई गति देना है। जिससे भारत प्रयास करके आगे वढेगा।

पात्रता | Eligibility

  • भारत के स्थायी निवासी
  • देश का गरीब नागरिक
  • श्रमिक
  • प्रवासी मजदूर
  • पशुपालक
  • मछुआरे
  • किसान
  • संगठित क्षेत्र व असंगठित क्षेत्र के व्यक्ति
  • काश्तकार
  • कुटीर उद्योग
  • लघु उद्योग
  • मध्यम-वर्गीय उद्योग

प्रधानमंत्री विशेष आर्थिक पैकेज किसके लिए है | Who is the Prime Minister Special Economic Packs

  • विशेष आर्थिक पैकज हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, लघु-मंझोले उद्योग, हमारे MSME के लिए है, और करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है, जो आत्मनिर्भर भारत के हमारे संकल्प का मजबूत आधार हैं।  
  • ये आर्थिक पैकेज देश के उस श्रमिक के लिए है, देश के उस किसान के लिए है जो हर स्थिति, हर मौसम में देशवासियों के लिए दिन रात मेहनत कर रहा है।
  • ये आर्थिक पैकेज हमारे देश के मध्यम वर्ग के लिए है, जो ईमानदारी से टैक्स देता है, देश के विकास में अपना योगदान देता है।
  • ये आर्थिक पैकेज भारतीय उद्योग जगत के लिए है जो भारत के आर्थिक सामर्थ्य को बुलंदी देने के लिए संकल्पित हैं.

लाभ | Benefits

  • समाज के हर वर्ग को आर्थिक पैकेज का लाभ मिलेगा।
  • इस आर्थिक पैकेज से उन लोगों को भी लाभ होगा जो कोरोना के चक्र में बुरी तरह फंस गए हैं।
  • इस पैकेज से 10 करोड़ मजदूरों को लाभ पहुंचेगा।
  • MSME से जुड़े 11 करोड़ कर्मचारियों को फायदा होगा।
  • इंडस्ट्री से जुड़े 3.8 करोड़ लोग इसका लाभ उठाएगें।
  • टेक्सटाइल इंडस्ट्री से जुड़े 4.5 करोड़ कर्मचारी भी इस योजना का लाभ उठाएगें।
  • ये आर्थिक पैकेज हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु-मंझोले उद्योग, हमारे MSME के लिए है, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है |
  • आर्थिक पैकेज भारतीय उद्योग जगत को भी नई ताकत देगा।
  • इससे भूमि, श्रम, नकदी और कानून सभी पर बल दिया गया है।
  • देश के विभिन्न वर्गों को, आर्थिक व्यवस्था की कड़ियों को, 20 लाख करोड़ रुपए का सपोर्ट मिलेगा।
  • ये पैकेज, 2020 में देश की विकास यात्रा को, आत्मनिर्भर भारत अभियान के लिए नई गति देगा।
  • विशेष आर्थिक पैकेज करीब 20 लाख करोड़ रूपये का है। जो जीडीपी का करीब-करीब 10% है|
  • इस पैकेज के जरिए ऐसे उपाय किए जाएगें जिससे MSME क्षेत्र में नकदी की उपलब्धता बनी रहे।
  • इससे देश के विभिन्न वर्गों को आर्थिक व्यवस्था की कड़ियों को सहारा मिलेगा।
  • ये आर्थिक पैकेज उन सभी उद्योगों के लिए है, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन हैं।
  • इससे हर सेक्टर का विकास संभव हो सकेगा।
  • बोल्ड रिफॉर्म्स की प्रतिबद्धता के साथ अब देश आगे बढेगा।

आत्मनिर्भर भारत का संकल्प | Resolve of self-reliant India

आत्मनिर्भर भारत पांच स्तंभों पर खड़ा होगा, जो इस प्रकार हैं:-

  1. पहला पिलर है – इकोनॉमी: एक ऐसी इकोनॉमी है जो इंक्रीमेंटल चेंज नहीं बल्कि क्वांटम जंप लाएगी।
  2. दूसरा पिलर है – इंफ्रास्ट्रक्चर: एक ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा जिससे आधुनिक भारत की पहचान बनेगी।
  3. तीसरा पिलर है – हमारा सिस्टम: एक ऐसा सिस्टम है जो बीती शताब्दी की रीति-नीति नहीं बल्कि इक्कीसवीं सदी के सपनों को साकार करने वाली टेक्नोलॉजी ड्रिवन व्यवस्थाओं पर आधारित होगा।
  4. चौथा पिलर है – हमारी डेमोग्राफ़ी: दुनिया की सबसे बड़ी डेमोक्रेसी में हमारी वाइब्रेंट डेमोग्राफ़ी हमारी ताक़त वनेगी, जो आत्मनिर्भर भारत के लिए हमारी ऊर्चा का प्रमुख स्रोत है।
  5. पाँचवा पिलर है – डिमांड: हमारी अर्थव्यवस्था में डिमांड और सप्लाई चेन का जो चक्र है, उसे पूरी क्षमता से इस्तेमाल किए जाने की ज़रूरत है। देश में डिमांड बढ़ाने के लिए, डिमांड को पूरा करने के लिए हमारी सप्लाई चेन के हर स्टेकहोल्डर का सशक्त होना ज़रूरी है। हमारी सप्लाई चेन, हमारी आपूर्ति की उस व्यवस्था को हम मज़बूत करेंगे, जिसमें मेरे देश की मिट्टी की महक होगी, और हमारे मज़दूरों के पसीने की ख़ुशबू होगी।

राहत पैकेज के अंतर्गत महत्वपूर्ण क्षेत्र | Important Areas under Relief Package

  • कृषि प्रणाली
  • सरल और स्पष्ट नियम कानून
  • उत्तम आधारिक संरचना
  • समर्थ और संकल्पित मानवाधिकार
  • बेहतर वित्तीय सेवा
  • नए व्यवसाय को प्रेरित करना
  • निवेश को प्रेरित करना
  • मेक इन इंडिया

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!