मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना 2021 | ऑनलाइन आवेदन | एप्लीकेशन फॉर्म | पूरी जानकारी

|| राजस्थान कृषक साथी योजना | Rajasthan Krishak Sathi Yojana | मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना | Mukhyamantri Krishak Sathi Scheme | लाभ / पात्रता / उद्देश्य / विशेषताएं | Apply Online | Application Form || 

 

राजस्थान के मुख्यमंत्री दवारा किसानो को आत्म-निर्भर वनाने और उन्हे वित्तिय सुरक्षा प्रदान करने के लिए कृषक साथी योजना को लागु किया गया है। जिसके जरिए किसानो की दुर्घटना होने पर उन्हे आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। कैसे मिलेगा योजना का लाभ और योजना के लिए आवेदन कैसे किया जाएगा। ये सारी जानकारी लेने के लिए आपको ये आर्टीकल अंत तक पढना होगा। तो आइए जानते हैं – मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना 2021 के वारे मे।

logo

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana

राजस्थान सरकार दवारा राज्य मे किसानो की सिथति को मजबूत वनाने और उन्हे सशक्त वनाने के लिए मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना को शुरु किया गया है। जिसके तहत कृषक गतिविधियों के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं की स्थिति में किसानों को 5000 से लेकर 200000 रुपये तक की आर्थिक सहायता सरकार दवारा प्रदान की जाएगी। ताकि आर्थिक सहायता मिलने से लाभार्थी अपना इलाज करवा सकें । किसान की मृत्यु या विकलांगता दुर्घटना होने पर ही उन्हे योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा। आत्महत्या या फिर प्राकृतिक मौत को योजना के अंतर्गत शामिल नहीं किया गया है। लाभार्थीयो को मिलने वाली सहायता राशि सीधे उनके बैंक खाते मे ट्रांसफर की जाएगी। जिससे पात्र लाभार्थीयो को दुर्घटना के कारण होने वाली आर्थिक तंगी से लड़ने में मदद मिलेगी। सरकार दवारा इस योजना के लिए 2000 करोड रुपये का बजट निर्धारित किया गया है। योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी ऑनलाइन तथा ऑफलाइन तरीके से आवेदन कर सकते हैं। 

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का उद्देश्य 

योजना का मुख्य उद्देश्य किसानो को कृषक गतिविधियों के दौरान होने वाली दुर्घटनाओ की सिथति मे सरकार दवारा वित्तिय सहायता उपलव्ध करवाना है, ताकि किसानो को अपना इलाज करवाने के लिए आर्थिक तंगी का सामना न करना पडे।

1

योजना के अंतर्गत आने वाले लाभार्थी 

  • पति या फिर पत्नी: यदि लाभार्थी किसान की मृत्यु हो गई है या पात्र लाभार्थी विकलांग हो गया है तो उस सिथति मे लाभार्थी के पति या फिर पत्नी को योजना की धनराशि प्रदान की जाएगी।
  • बच्चे: लाभार्थी की पति या पत्नी अनुपस्थित होने पर लाभार्थी किसानो के बच्चों को योजना की राशि प्रदान की जाएगी ।
  • माता पिता: लाभार्थी के बच्चे एवं पति पत्नी अनुपस्थित होने पर लाभार्थी के माता-पिता को लाभ की राशि प्रदान की जाएगी।
  • पौत्र तथा पौत्री: यदि लाभार्थी के पति या पत्नी, बच्चे या माता-पिता नहीं है तो उस परिसिथति में योजना का लाभ लाभार्थी के पौत्र तथा पौत्री को प्रदान होगा।
  • बहन: यदि लाभार्थी की कोई अविवाहित/विधवा/आश्रित बहन लाभार्थी के साथ रहती है तब योजना का लाभ बहन को प्रदान किया जाएगा।
  • वारिस: यदि लाभार्थी कि पति -पत्नी, बच्चे, माता पिता, पुत्र या पुत्री एवं बहन नहीं है तो इस स्थिति में योजना का लाभ वारिस को दिया जाएगा।

Krishak Sathi Yojana के लिए पात्रता 

  • राजस्थान राज्य के स्थायी निवासी
  • स्थायी विकलांग पंजीकृत किसान योजना के लिए पात्र है।
  • किसान की मृत्यु होने की सिथति मे योजना का लाभ प्राप्त करने वाला व्यक्ति पंजीकृत किसान का बालक, बालिका या फिर पति – पत्नी होना चाहिए।
  • योजना के तहत मृत्यु या स्थायी विकलांगता दुर्घटना के कारण होनी चाहिए।
  • आत्महत्या या फिर प्राकृतिक मौत योजना के अंतर्गत शामिल नहीं होगी।

आयु सीमा 

  • योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए मृत या स्थायी विकलांग व्यक्ति की आयु 5 से 70 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज 

  • आधार कार्ड
  • स्थायी प्रमाण पत्र
  • आयु का प्रमाण
  • जमीनी दस्तावेज
  • बैंक खाता
  • मृत्यु की स्थिति में पोस्टमार्टम रिपोर्ट या मृत्यु प्रमाण पत्र
  • स्थयी विकलांगता के मामले में मेडिकल बोर्ड/सिविल सर्जन का विकलांगता प्रमाण पत्र
  • FIR एवं सपोर्ट पंचनामा पुलिस पूछताछ रिपोर्ट
  • सब डिविजनल मजिस्ट्रेट की केस स्वीकृति रिपोर्ट
  • निर्धारित प्रपत्र में आवेदन
  • क्षतिपूर्ति बॉन्ड
  • बीमा निर्देशक द्वारा पूछे गए अन्य प्रमाण
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नम्वर

योजना के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता 

परिस्थिति वित्तिय सहायता
मृत्यु होने पर 2,00,000/- रुपये
2 अंगों में विकलांगता होने पर (या 2 हाथ, 2 पैर या 2 आंख या 1 हाथ और 1 पैर) 50,000/- रुपये
रीड की हड्डी का टूटना, सिर की चोट के कारण कोमा में जाने वाले लाभार्थी   50,000/- रुपये
पुरुष या महिला के सिर के पूरे हिस्से के बालों की डी स्कैल्पइंग की सिथति मे 40,000/- रुपये
पुरुष या महिला के सर के कुछ हिस्से के बालों की डी स्कैल्पइंग होने पर 25,000/- रुपये
1 अंग में विकलांगता (हाथ या पैर या आंख या टखना) आदि 25,000/- रुपये
यदि 4 उंगलियां कट जाने पर 20,000/- रुपये
यदि 3 उंगलियां कट जाने पर 15,000/- रुपये
यदि 2 उंगलियां कट जाने पर 10,000/- रुपये
यदि 1 उंगली कट जाने पर 5,000/- रुपये
दुर्घटना के कारण फ्रैक्चर होने पर 5,000/- रुपये

योजना के अंतर्गत लाभ प्रदान करने की प्रक्रिया 

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ किसान की मृत्यु या विकलांगता दुर्घटना होने पर मिलता है । जिसमे आत्महत्या या प्राकृतिक मौत को योजना के अंतर्गत शामिल नहीं किया गया है। योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी को हादसे के 6 महीने के भीतर आवेदन करना होता है। दुर्घटना होने के 6 महीने के बाद लाभार्थी योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं।

योजना की जरूरत 

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत लाभार्थी किसानों को सरकार दवारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। यह आर्थिक सहायता कृषि गतिविधि के दौरान होने वाले हादसे पर दी जाती है। लाभार्थीयो को मिलने वाली इस आर्थिक सहायता से लाभार्थी अपना इलाज करवा सकते हैं। अगर लाभार्थी किसान की मृत्यु हो जाती है तो उस सिथति मे मृत के परिवार को सरकार दवारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। ताकि लाभार्थी के परिवार पर आर्थिक तंगी का बोझ न पडे। योजना मे होने वाला सारा खर्च सरकार दवारा उठाया जाता है, जिससे लाभार्थीयो को आर्थिक तंगी का सामना नहीं करना पडता है।

8896

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लाभ 

  • मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ राजस्थान राज्य के किसान भाइयो को मिलेगा।
  • योजना के जरिए यदि कृषि गतिविधियों के दौरान किसानों की मृत्यु हो जाने पर या विकलांग होने पर उन्हे सरकार दवारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।
  • सरकार दवारा लाभार्थीयो को 5000/- रुपये से 2,00,000/- रुपये तक की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।
  • लाभार्थीयो को दी जाने वाली सहायता राशि उनके बैंक खाते मे स्थानातरित की जाती है।
  • सहायता राशि मिलने से लाभार्थी अपना इलाज करवा सकते हैं।
  • योजना के तहत जिन लाभार्थीयो की मृत्यु हो जाती है, तब योजना की राशि उनके परिवार वालो को मिलेगी।
  • योजना के लिए सरकार दवारा 2000 करोड रुपये खर्च किए जाएगें। जिसमे आने वाला सारा खर्च सरकार दवारा उठाया जाएगा।
  • इस योजना से लाभार्थीयो को आर्थिक तंगी का सामना नहीं करना पडेगा।
  • ये योजना लाभार्थीयो के आर्थिक पक्ष मे सुधार करती है।
  • योजना का लाभ लेने के लिए पात्र लाभार्थीयो को 6 महीने के भीतर आवेदन पत्र जमा करना होता है।
  • अगर कोई किसान दुर्घटना होने के 6 महीने के बाद आवेदन पत्र जमा करता है तो इस स्थिति में उसे योजना का लाभ प्रदान नहीं होगा।
  • पात्र लाभार्थीयो को जिला कृषि अधिकारी के कार्यालय में आवेदन करना होगा।
  • योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थीयो को रजिस्ट्रेशन करना होगा।

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana की मुख्य विशेषताएं 

  • किसानो को आत्म-निर्भर व सशक्त वनाना
  • सरकार दवारा सहायता प्रदान करना
  • पात्र लाभार्थीयो को इलाज करवाने के लिए मिलेगी आर्थिक सहायता
  • आर्थिक तंगी के बोझ को कम करना

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लिए कैसे करें आवेदन 

  • सवसे पहले लाभार्थीयो को अपने जिले के कृषि विभाग में जाना होगा।
  • उसके बाद आपको वहां से योजना का आवेदन फार्म लेना होगा।
  • अब आपको आवेदन फार्म में पूछी गई सारी जानकारी जैसे कि नाम, मोबाइल नंबर, पता आदि भरना होगा।
  • उसके बाद आपको फार्म के साथ आव्श्यक दस्तावेज अटैच करने होगें।
  • ये सारी प्रक्रिया होने के बाद आपको ये फार्म कृषि विभाग में जमा करवा देना है।
  • फार्म जमा होने के बाद आपके दस्तावेजों का सत्यापन किया जाएगा।
  • सत्यापन होने के बाद ही योजना की धनराशि आपके खाते में पहुंचा दी जाएगी।
  • इस तरह आपको राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ मिल जाएगा।

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेट और लाइक जरुर करें।   

error: Content is protected !!