गेहूं खरीद किसान पंजीकरण 2021 | UP गेहूं खरीद | ई क्रय प्रणाली | eproc.up.gov.in | पूरी जानकारी

 

॥ उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | Gehu kharid Kisan registration | ई-क्रय प्रणाली पोर्टल | UP Gehun Khareed online Kisan panjikaran | लाभ / पात्रता / उद्देश्य / विशेषताएं | eproc.up.gov.in | टोकन प्रिंट प्रक्रिया ॥

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री दवारा राज्य के किसानो की आय मे सुधार कर उन्हे आत्म-निर्भर वनाने के लिए ई-क्रय प्रणाली किसान पंजीकरण पोर्टल की शुरुआत की गई है। जिसके दवारा किसान UP गेहूं खरीद पोर्टल पर पंजीकरण कराकर अपनी उपज को ऑनलाइन मोड में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे। कैसे मिलेगा लाभ और इसके लिए आवेदन कैसे किया जाएगा। ये सारी जानकारी लेने के लिए आपको ये आर्टीकल अंत तक पढना होगा। तो आइए जानते हैं – गेहूं खरीद किसान पंजीकरण 2021 के वारे मे।

Uttar Pradesh Gehu kharid Kisan registration

गेहूं खरीद किसान पंजीकरण 

उत्तर प्रदेश सरकार दवारा किसानो की सिथति को वेहतर वनाने और उनकी आय मे सुधार करने के लिए खाद्य एवं रसद विभाग (UP) ई क्रय प्रणाली /ई उपार्जन पोर्टल को विकसित किया गया है । इस पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसल को राज्य सरकार को आसानी से बेच सकेगें। इसके लिए राज्य के किसानों को पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा, उसके बाद ही किसान अपनी रवि फसल (गेहूं ) की फसल को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकारी एजेंसियों को बेच सकेंगे ।

ई क्रय प्रणाली पोर्टल 

राज्य सरकार दवारा अप्रैल महीने से किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदने का कार्य शुरू किया जाएगा और उत्तर प्रदेश में गेहूं की खरीद 15 मई से शुरु की जाएगी । राज्य के जो किसान अपनी फसल को बेचना चाहते है, तो वह खाद्य एवं रसद विभाग की ई – क्रय प्रणाली की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करके उसे वेच सकते हैं। रबी सीजन फसल 2020-21 गेहूं की खरीद के लिए ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया अप्रैल महीने से शुरू की जा रही है। अत: 15 अप्रैल से लाभार्थी पोर्टल पर पंजीकरण करके उन्हे टोकन प्राप्त करना होगा । टोकन प्राप्त करने के पश्चात ही किसान मंडीयों में फसल ले जा सकेंगे। जिससे उनकी समय की बचत होगी।   

उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद प्रक्रिया 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा किसानो के हित का ध्यान रखने हेतु गेहूं खरीद शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। जिसे 1 अप्रैल 2021 से शुरु किया जाएगा। गेहूं खरीद के तहत किसी भी क्रय केंद्र पर अब राज्य के किसानों को किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा । इस वर्ष गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 रुपये की बढ़ोतरी की गई है और गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1975 रुपए प्रति क्विंटल हो गया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा गेहूं खरीद 2021- 2022 के संवध मे समय सारिणी एवं प्रस्तावित क्रय नीति के अधिकारियों के साथ मीटिंग की गई। जिसमे मुख्यमंत्री द्वारा यह निर्देश दिए गए कि जल्द ही गेहूं किसानों को ऑनलाइन पर्ची की सुविधा प्रदान की जाएगी। ताकि किसानो की आय मे सुधार कर उन्हे सशक्त वनाया जा सके।  

गेहूं खरीद से पारदर्शिता सुनिश्चित की जाएगी 

प्रणाली मे पारदर्शिता लाने के लिए राज्य सरकार दवारा क्रय केंद्रों पर नमी मापक यंत्र, डबल जाली का छलना‍, इलेक्ट्रॉनिक कांटा आदि उपकरण किसानो को उपलब्ध कराए जाएगें। यह सभी उपकरण 10 मार्च तक क्रय केंद्रों पर उपलब्ध हो जाएगें। इसके अलावा इस वर्ष ई पॉप मशीनों के माध्यम से बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन द्वारा गेहूं खरीदने की व्यवस्था तथा बटाईदारो भी गेहूं की खरीद की जाएगी। जिससे प्रणाली से पारदर्शिता बनेगी।   

ई-क्रय प्रणाली पोर्टल का उद्देश्य 

उत्तर प्रदेश के किसानो को गेहू की फसल बेचने के लिए ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीकरण करना है। पंजीकरण के बाद किसान अपनी फसल को राज्य सरकार के तहत रजिस्टर्ड एजेंसियों को न्यूनतम समर्थन मूल्य MSP पर बेच सकते हैं । इससे किसानों की फसल समय से बिक जाएगी । फसल बिक जाने के बाद बिक्री की धनराशि लाभार्थी किसानो के बैंक खाते में जमा की जाएगी ।

UP Gehun Khareed online Kisan panjikaran के लिए पात्रता 

  • उत्तर प्रदेश राज्य के स्थायी निवासी
  • किसान वर्ग
  • वही किसान पात्र होगें जो अपनी गेहू की फसल को बेचना चाहते है ।

गेहूं खरीद किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के लिए मुख्य दस्त्तावेज 

  • आधार कार्ड
  • स्थायी प्रमाण पत्र
  • खसरा – खतौनी, खसरा संख्या और जमीन का रकबा एवं गेहूँ का रकबा
  • खेत की राजस्व अभिलेख से संबंधित जानकारी
  • बैंक खाता
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नम्वर

998

ई-क्रय प्रणाली किसान पंजीकरण के लाभ

  • राज्य के किसानों को एक निश्चित मंडी उपलब्ध कराना , जिससे कि किसानों को समय रहते अपनी फसल बेचने में मदद मिल सके ।
  • किसानों को अपनी फसल वेचने के लिए ई-उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना। 
  • किसानों के समय की होगी वचत।
  • गेहूं की खरीद होने पर किसानों के बैंक खाते में गेहूं खरीद की रकम जमा करना ।
  • किसानो की आय मे होगी वढोतरी।
  • किसानों को केंद्रीय मंडियो के साथ जोडना ।
  • किसानों के साथ गेहूं की खरीद में पारदर्शिता वनाए रखना
  • न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद करना ।
  • गेहूं खरीद के लिए इस बार राज्य सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य 1925 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है।

Gehun Khareed online Kisan panjikaran की मुख्य विशेषताएं

  • किसानो को आत्म-निर्भर व सशक्त वनाना
  • जो किसान मंडियो में अपनी फसल ले जाना चाहते हैं उन्हें सबसे पहले ई क्रय प्रणाली पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर टोकन प्राप्त करना होगा । टोकन मिलने के बाद किसान मंडी में फसल ले जा सकेंगे। जिससे उनकी समय की बचत होगी।
  • राज्य के उन किसानो को पंजीकरण के बाद टोकन मिलेगा और उन्हे उसी दिन मंडी मे आना है जिस दिन का उनके पास टोकन होगा।
  • मंडियों में अपनी उपज को ले जाने से पहले किसानो को ये टोकन मोबाइल नंबर पर दिया जायेगा।
  • वर्ष 2021 के लिए राज्य भर में गेहूं की खरीद के लिए 5500 खरीद केंद्र बनाए गए हैं ।
  • इस प्रक्रिया से किसान अपनी फसल आसानी से वेच सकेगें।
  • फसल बिक जाने पर उसके बदले में मिलने वाली धनराशि सीधे किसानों के बैंक अकॉउंट में पंहुचा दी जाएगी।
  • सरकार के द्वारा इस बार गेहूं की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 1925 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है ।
  • इस वर्ष 55 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद का टारगेट रखा गया है।

ई-क्रय प्रणाली किसान पंजीकरण के लिए महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश

  • किसान को रजिस्ट्रेशन करते समय में गेहूं के खेत का विवरण देना होगा।
  • खेत का विवरण देने के लिए किसानो को खतौनी/खसरा संख्या, गेहूं का रकबा आदि भरना आवश्यक है।
  • आधार कार्ड, बैंक पास बुक व राजस्व अभिलेखों का सही विवरण लाभार्थी को दर्ज करना होगा ।
  • रजिस्ट्रेशन होने के बाद रजिस्ट्रेशन नंबर और उसका प्रिंट लभार्थी को जरूर लेना होगा।
  • मोबाइल नंबर देकर लाभार्थी दवारा रजिस्ट्रेशन ड्राफ्ट फिर से प्रिंट किया जा सकता है।
  • अगर लाभार्थी संशोधन करना चाहता है, तो वह मोबाइल नंबर देकर रजिस्ट्रेशन में संशोधन किया कर सकता है।
  • जब तक आवेदन लॉक नहीं किया जा सकता, उस परिसिथति मे रजिस्ट्रेशन स्वीकार नहीं होगा।
  • सारी प्रक्रिया होने के बाद लाभार्थी के मोबाइल नंबर पर रजिस्ट्रेशन की पूरी जानकारी भेजी जाएगी। 
  • 100 क्विंटल से अधिक गेहूं की बिक्री के लिए SDM दवारा सत्यापन कराया जायेगा।
  • गेहूं बेचने के बाद केन्द्र प्रभारी से पावती पत्र लाभार्थी को अवश्य प्राप्त कर लेना है। 

गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण कैसे करे 

1

  • यहां किल्क करने के वाद आप अगले पेज मे आ जाओगे।
  • उसके बाद इस पेज पर 6 स्टेप खुल जाएंगे । आपको ये सारे स्टेप भरने होगें।      

2

  • सवसे पहले आपको पंजीकरण प्रपत्र वाले वटन पे किल्क करना है।
  • उसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुलके आएगा।

3

  • आपको इसमे दी गई जानकारी भरने के बाद आगे वढे वटन पे किल्क कर देना है।
  • यहां किल्क करने के बाद आपके सामने रबी फसल (गेहूं खरीद) के लिए किसान ऑनलाइन पंजीकरण प्रपत्र / फॉर्म खुल जाएगा ।

4

  • इस पंजीकरण फॉर्म में आपको दी गई सारी जानकारी जैसे किसान का नाम, पता, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, पिता, पति का नाम, तहसील, जनपद आदि भरना होगा ।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको अंत मे “पंजीकरण करें” के बटन पर क्लिक कर देना है।       

पंजीकरण प्रारुप 

  • पंजीकरण प्रारुप देखने के लिए लाभार्थी को पंजीकरण प्रारुप वाले वटन पे किल्क करना है।
  • यहां किल्क करने के बाद आपके सामने एप्लीकेशन फार्म PDF मे खुलके आएगा।

1

 

  • सवसे पहले आपको इसका प्रिंट आउट लेना है।
  • उसके वाद आपको इस फार्म मे दी गई सारी जानकारी भरनी होगी।

पंजीकरण संशोधन / ड्राफ्ट प्रक्रिया 

  • अगर किसी लाभार्थी द्वारा गेहूं खरीद के लिए पंजीकरण फॉर्म भरते समय किसी भी तरह की कोई गलत जानकारी भर दी गई है तो वे पंजीकरण संशोधन कर सकते हैं।
  • इसके लिए लाभार्थी को पंजीकरण संशोधन वाले ऑप्शन मे जाकर उस बटन पे किल्क करना है। 
  • यहां किल्क करने के बाद आप अगले पेज मे आ जाओगे।

5

  • अब आपको दी गई जानकारी भरने के बाद आगे बढें वटन पे किल्क कर देना है।

किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट प्रक्रिया 

  • किसान पंजीकरण फार्म प्रिंट करने के लिए लाभार्थी को किसान पंजीकरण प्रिंट वाले ऑप्शन मे जाकर उस बटन पे किल्क करना है।
  • यहां किल्क करने के बाद आप अगले पेज मे आ जाओगे।

6

  • इस पेज मे आपको दी गई सारी जानकारी भरने के बाद आगे बढें बटन पे किल्क कर देना है।
  • उसके बाद पूर्ण रूप से भरा हुआ प्रपत्र खुल जाएगा जिसको आप प्रिंट या सेव कर सकते हो|

लॉक के उपरांत टोकन वनाने की प्रक्रिया 

  • रबी फसल (गेहूँ खरीद) हेतु ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म भरने के बाद किसानो को अपनी फसल को मंडी में किस दिन कितने बजे लेकर जाना है उसके लिए उन्हे मंडी टोकन बनाना होगा ।
  • ये टोकन वनाने के लिए आपको लॉक के उपरांत टोकन वनाए वाले बटन पे किल्क करना है। 

7

  • यहां किल्क करने के बाद अगला पेज खुलेगा।
  • यहां आपको दी गई जानकारी भरने के बाद आगे वढें वटन पे किल्क कर देना है।
  • उसके बाद रबी फसल (गेहूं खरीद) हेतु ऑनलाइन टोकन पंजीकरण फॉर्म खुल जाएगा। यह क्रय हेतु टोकन किसान को उसके मोबाइल नंबर पर भी प्राप्त होगा।
  • जिसमें उपज को लेकर जाने का दिन और समय दोनो को अंकित किया जाएगा। 

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेट और लाइक जरुर करें।

error: Content is protected !!