Updated : Mar 12, 2020 in Yojana

मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना | पूरी जानकारी | कैसे मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना | Chief Minister Anchal Amrit Yojana

 

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत दवारा 12 मार्च 2020 को राज्य के स्कूलों में कक्षा 01 से – 08 तक के वच्चों को मीठा सुगंधित दूध देने के लिए मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना को शुरु किया है। इस योजना को फ्लेवर्ड मिल्क योजना के नाम से भी जाना जाता है। इस योजना के तहत प्रदेश के 17045 स्कूलों में पढ़ रहे 06 लाख 90 हजार बच्चों को  फ्लेवर युक्त सुगंधित दूध मिलेगा। जिसे सरकारी विद्यालयों, सहायता प्राप्त विद्यालयों और मदरसों में उपलब्ध कराया जाएगा। प्राथमिक स्तर पर एक बच्चे को 100 मिलीलीटर व उच्च प्राथमिक स्तर पर 150 मिलीलीटर दूध दिया जाएगा। दूध की आपूर्ति का जिम्मा उत्तराखंड सहकारी डेयरी फेडरेशन को दिया गया है। इन्वेस्टर समिट में आंचल व अमूल के बीच समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। जिससे अब अमूल दुग्ध संघ देहरादून में दूध व दुग्ध पदार्थ की पैकिंग कराएगा। तरल दूध व पैकिंग सामग्री अमूल दवारा उपलब्ध होगी। इससे दुग्ध संघ को हर महीने करीब 25 लाख का अतिरिक्त व्यापार और करीब सात लाख रुपये का शुद्ध मुनाफा मिलेगा। इस योजना से वच्चों को उचित पोषण मिलेगा और उन्हे कुपोषण के खतरे से मुकित मिलेगी। जिससे वच्चों का शारिरीक विकास होगा।

उद्देश्य | An Objective

मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना का मुख्य उद्देश्य वच्चों को मीठा सुगंधित दूध उपलव्ध करवाकर कुपोषण जैसी विमारी से आजादी दिलवाना है।

पात्रता | Eligibility

  • उत्तराखंड राज्य के स्थायी निवासी
  • सरकारी स्कूलों और मदरसों में पढने वाले वच्चे
  • कक्षा 01 से 08 तक पढने वाले स्कूली वच्चे
  • कक्षा के हिसाव से आयु अवधी 06 से 14 वर्ष

लाभ | Benefits

  • मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना का लाभ उत्तराखंड के स्थायी निवासियों को मिलेगा।
  • इस योजना से राज्य में कक्षा 01 से कक्षा 08 तक के सभी वच्चों को उनकी पंसद का फ्लेवर दूध में डालकर दिया जाएगा।
  • इस योजना से राज्य के स्कूली वच्चों के लिए शुरु किया गया है।
  • इस योजना से वच्चों में प्रोटीन की मात्रा वढेगी, जिससे उनका शारिरीक विकास होगा।
  • इस योजना का सवसे ज्यादा फायदा उन वच्चों को मिलेगा, जिनके परिवार की आर्थिक दशा अच्छी न होने से अपने वच्चों के खान-पान का ध्यान नहीं रखते।
  • इस योजना से वच्चों में कुपोषण जैसी विमारी दूर होगी।
  • इस योजना के लिए प्राथमिक स्तर पर एक बच्चे को 100 मिलीलीटर दूध मिलेगा और उच्च प्राथमिक स्तर पर 150 मिलीलीटर दूध वच्चे को दिया जाएगा।

  • इस योजना से अब माता-पिता को अपने वच्चों के शारिरीक विकास के लिए किसी प्रकार की चिंता नहीं होगी।
  • इस योजना का फायदा स्कूलों में पढने वाले 06 लाख 90 हजार वच्चों को मिलेगा।
  • ये योजना स्कूली वच्चों के लिए निशुल्क शुरु की गई है।
  • इस योजना का भुगतान राज्य सरकार दवारा किया जाएगा।
  • इस योजना के लिए आंचल व अमूल के बीच समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। जिससे अमूल दुग्ध संघ देहरादून में दूध व दुग्ध पदार्थ की पैकिंग उपलव्ध कराएगा।    
  • इस योजना से दुग्ध संघ को हर महीने शुद्ध मुनाफा मिलेगा।

आशा करता हूं कि आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!