मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना | आवेदन प्रोसेस | पात्रता व विशेषताएं

 

|| Vriksh Sampada Yojana | छत्तीसगढ़ वृक्ष संपदा योजना | Vriksh Sampada Scheme Application Process || छत्‍तीसगढ़ सरकार दवारा राज्य में वृक्षों के व्यवसायिक उपयोग को बढ़ावा देने के लिए वृक्ष संपदा योजना को लागु किया गया है| इस योजना के जरिए निजी भूमि पर वृक्षारोपण को प्रोत्साहन देकर काष्ठ आधारित उद्योगों को बढ़ावा दिया जाएगा, जिससे किसानों की आय मे वढोतरी होगी और रोजगार के अवसर वढेंगे| कैसे मिलेगा इस योजना का लाभ और इसके अंतर्गत आवेदन कैसे किया जाएगा| ये सारी जानकारी लेने के लिए आपको ये आर्टीकल अंत तक पढना होगा| तो आइए जानते हैं – वृक्ष संपदा योजना के वारे मे|

Vriksh Sampada Yojana

Mukhyamantri Vriksh Sampada Yojana

छत्‍तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी दवारा राज्य मे वृक्ष संपदा योजना को शुरू किया गया है| इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार ने 05 वर्ष के भीतर 02 लाख एकड़ निजी भूमि पर इमारती व औषधीय वृक्ष तैयार किए जाएंगे| जिससे जंगलों पर दवाब कम करना और किसानों की आमदनी मे वढोतरी होगी। इस योजना के लिए पौधों के रोपण के लिए सरकार दवारा किसानों को 50% सब्सिडी दी जाएगी| इसके साथ ही 03 वर्ष तक प्रति एकड़ 10,000/- रुपये का बोनस भी दिया जाएगा| इसके अलावा सरकार तैयार पेड़ों की लकड़ी, छाल आदि बिकवाने की गारंटी भी ली जाएगी|

वृक्ष संपदा योजना का अवलोकन

योजना का नाम मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना
किसके दवारा शुरू की गई छत्‍तीसगढ़ सरकार दवारा
लाभार्थी राज्य के नागरिक
प्रदान की जाने वाली सहायता

निजी भूमि पर वृक्षारोपण को प्रोत्साहित कर वृक्षों के व्यावसायिक उपयोग  तथा  काष्ठ आधारित उद्योगों को बढ़ावा देना

आवेदन प्रक्रिया ऑफलाइन  
आधिकारिक वेबसाइट www.cgforest.com

Vriksh Sampada Yojana

योजना के मुख्य बिन्दु

  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने राज्य में निजी भूमि पर पौधारोपण को बढ़ावा देने के लिए वृक्ष संपदा योजना का प्रस्ताव तैयार किया है, जिसे मंत्रिपरिषद की आगामी बैठक में प्रस्तुत किया जाएगा। उसके बाद मंत्रिपरिषद में इस योजना पर मुहर लगाई जाएगी|
  • आवेदक निजी भूमि पर पौधारोपण कर सकेंगे, जिससे काष्ठ आधारित उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा|
  • इस योजना से जंगलों पर दबाव कम होगा|
  • टिश्यू कल्चर पद्धति के आधार पर सागौन, शीशम, बांस, ग्राफ्टेड आंवला, चंदन जैसी इमारती व महंगी लकड़ियों वाले पेड़ों के पौधे लगाने के लिए सरकार प्रोत्साहित करेगी।
  • इस योजना के लिए 100 करोड़ रुपये के बजट का प्रविधान किया गया है। 
  • अगर कोई किसान अपनी 01 एकड़ भूमि पर 01 लाख रुपये खर्च करके पौधे लगाता है तो उसे सरकार दवारा 01 लाख रुपये बतौर सब्सिडी मिलेगी। 
  • तैयार पेड़ों की लकड़ी, छाल आदि बिकवाने व निर्यात के लिए वन विभाग देश-विदेश की कंपनियों के साथ मिलकर किसानों से MOU किया जाएगा। इसका पूरा खाका तैयार कर लिया गया है।

CG वृक्ष संपदा योजना का उद्देश्य

योजना का मुख्य उद्देश्य जंगलों पर दवाब कम करना और किसानों की आमदनी को वढावा देना है|

वृक्ष संपदा योजना के तहत प्राकृतिक पेड़ों को काटने के लिए अब अनुमति की जरूरत नहीं होगी

छत्तीसगढ शासन ने निजी भूमि पर कृषि के रूप में रोपित और प्राकृतिक रूप से उगे पेड़ों की कटाई के नियमों को आसान वना दिया है। जिसके तहत अब भू-स्वामी अपनी भूमि पर कृषि के रूप में रोपित पेड़ों की कटाई स्वयं करवा सकेंगे। उसके लिए उन्हे किसी प्रकार की अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं होगी। इस सुविधा के लिए आवेदक को अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को इसकी सूचना देनी होगी। उसके बाद भू-स्वामी वन विभाग से भी पेड़ कटवा सकेंगे। इस प्रक्रिया के लिए आवेदक को अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को आवेदन प्राप्ति के 45 दिन के भीतर अनुमति देनी होगी।

योजना के जरिए इमारती लकड़ी का होगा आयात

वन विभाग के अधिकारियों ने वताया है, कि वर्तमान में भारत में हर वर्ष विदेश से 60,000 करोड़ रुपये की इमारती लकड़ी का आयात किया जाता है। जिसमे से छत्तीसगढ़ राज्य में इसका 10% हिस्सा आता है। उसके लिए सरकार ने काष्ठ आधारित उद्योगों की स्थापना पर काम करना शुरू कर दिया है। इसी उद्देश्य की पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गौरव दिवस के अवसर पर राज्य में पेड़ों के व्यावसायिक उपयोग को बढ़ावा देने की अपार संभानाओं को देखते हुए योजना को लागू किया है|

मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना के लिए पात्रता

  • आवेदक को छत्तीसगढ़राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए|
  • सभी वर्ग के लोग योजना का लाभ लेने के लिए पात्र हैं|

आवश्यक दस्तावेज 

  • आधार कार्ड 
  • स्थायी प्रमाण पत्र 
  • आय प्रमाण पत्र 
  • जमीनी दस्तावेज 
  • बैंक खाता 
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो 
  • मोबाइल नम्वर 

वृक्ष संपदा योजना के लाभ

  • वृक्ष संपदा योजना के जरिए राज्य सरकार छत्तीसगढ़ के नागरिकों को अपनी निजी भूमि पर व्यावसायिक वृक्षारोपण करने के लिए प्रोत्साहित करेगी|
  • सरकार छत्तीसगढ़ के निवासियों को लकड़ी का उद्योग करने के लिए प्रेरित किया जाएगा, ताकि उन्हें पेड़ों से ही आय प्राप्त हो सके। 
  • इस योजना से राज्य मे ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाए जाएंगे|
  • लोगअपने निजी क्षेत्र में पेड़ पौधे लगाएंगे, जिसके लिए सरकार दवारा उन्हे सहायता प्रदान की जाएगी|
  • इस योजना के जरिए सरकार तैयार पेड़ों की लकड़ी, छाल आदि बिकवाने की गारंटी भी लेगी|
  • इस योजना से राज्य मे रोजगार के अवसर वढंगे|
  • किसानों की आमदनी भी इस योजना के जरिए होगी|

छत्तीसगढ वृक्ष संपदा योजना की मुख्य विशेषताएं

  • लकड़ी से संबंधित उद्योग को बढ़ावा देना
  • पौधों के रोपण के लिए सरकार दवारा सब्सिडी देना
  • सरकार दवारा तैयार पेड़ों की लकड़ी, छाल आदि बिकवाने का कार्य करना
  • पात्र लाभार्थीयों को आत्म-निर्भर व सशक्त वनाना|

मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना के लिए कैसे करे आवेदन

  • सवसे पहले लाभार्थी को नजदीकी वन विभाग कार्यालय मे जाना होगा|
  • उसके बाद आपको वहाँ से आवेदन फॉर्म प्राप्त करना है|
  • इस फॉर्म मे आपको पूछी गई सारी जानकारी भरनी है, और जरूरी दस्तावेज फॉर्म के साथ अटैच करने हैं|
  • सारी प्रक्रिया हो जाने के बाद आपको ये फॉर्म वहाँ पे जमा करवा देना है, जहाँ से आपने फॉर्म लिया था|
  • इस तरह आपके दवारा योजना के अंतर्गत सफलतापूर्वक आवेदन कर दिया जाएगा|

आशा करता हूँ आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी| आर्टीकल अच्छा लगे तो कॉमेट और लाइक जरूर करे|

error: Content is protected !!