मुख्यमंत्री दिव्यांग प्रोत्साहन योजना | पूरी जानकारी | कैसे मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री दिव्यांग प्रोत्साहन योजना | Chief Minister’s Divyang Protsahan Yojana

 

मध्य प्रदेश सरकार दवारा राज्य में 9वीं-10वीं के दिव्यांग विद्यार्थियों को प्रोत्साहन देने के लिए मुख्यमंत्री दिव्यांग प्रोत्साहन योजना को शुरु किया है। इस योजना के तहत दृष्टिबाधित, श्रवण बाधित एवं अस्थिबाधित दिव्यांग विद्यार्थियों को लैपटॉप एवं मोट्रेट ट्रायसाइकिल वितरित किए जाएगें। ऐसे विद्यार्थी जिन्होंने कक्षा 9वीं में 50% अंक प्राप्त कर कक्षा 10वीं में प्रथम बार प्रवेश लिया है या जिन्होने ITI में प्रवेश लिया हो, उन दृष्टिबाधित, श्रवणबाधित, अस्थिबाधित विद्यार्थियों को इस योजना में शामिल किया जाएगा। इसके अलावा अस्थिबाधित विद्यार्थी, जिनके शरीर का निचला भाग प्रभावित है, या वे चलने में अक्षम हैं, और जिन्होने न्यूनतम 60% अंक हासिल किए हैं, वे भी इस योजना का लाभ ले सकते हैं। शैक्षणिक सत्र वर्ष 2019-20 में जिले के संस्थानों में अध्ययनरत दिव्यांग विद्यार्थियों के आवेदन पात्रता अनुसार तैयार करवाए जाएगें। जिसमें आवेदन जिला स्तर पर गठित समिति के दवारा होगा ताकि स्वीकृति के बाद योजना का लाभ दिव्यांगजनों को प्रदान किया जाए।   

उद्देश्य | An Objective

मुख्यमंत्री दिव्यांग प्रोत्साहन योजना का मुख्य उद्देश्य दिव्यांग विद्यार्थियों को लैपटॉप एवं मोट्रेट ट्रायसाइकिल उपलव्ध करवाना है।          

पात्रता | Eligibility

  • मध्य प्रदेश राज्य के स्थायी निवासी
  • दिव्यांग विद्यार्थी
  • 9वीं-10वीं/ ITI में न्युनतम 50-60% अंक लेने वाले छात्र

महत्वपूर्ण दस्तावेज | Important Documents

  • आधार कार्ड
  • स्थायी प्रमाण पत्र
  • शैक्षिक योग्यता दस्तावेज
  • शारीरिक फिटनेस प्रमाण पत्र

लाभ | Benefits

  • मुख्यमंत्री दिव्यांग प्रोत्साहन योजना का लाभ मध्य प्रदेश के दिव्यांग वच्चों को प्राप्त होगा।
  • इस योजना से राज्य में उन दिव्यांग वच्चों को शामिल किया जाएगा, जिन्होने 9वीं-10वीं/ ITI में न्युनतम 50% अंक प्राप्त किए हैं।
  • इस योजना से इन वच्चों को लैपटॉप एवं मोट्रेट ट्रायसाइकिल वांटे जाएगें।
  • इस योजना से दिव्यांग विद्यार्थी पढाई के लिए प्रेरित होगें।

  • इस योजना का विस्तार करने के लिए पूरे राज्य में शुरु की जाएगी।
  • राज्य में दिव्यांग विद्यार्थीयों की सूची वनाई जाएगी, कि किस जिले में कितने ऐसे वच्चे हैं, जो चलने में असर्मथ हैं।
  • इन विद्यार्थीयों को स्कूल/ व्लॉक स्तर पर बुलाकर इस योजना का लाभ दिया जाएगा।
  • इस योजना से दिव्यांग वच्चों का आत्मविश्वास वढेगा।

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Last Updated on February 14, 2020 by Abinash