Nabard Dairy Farming Yojana 2024 : ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन फॉर्म

Nabard Dairy Farming Yojana : देश के नागरिको को रोजगार के अवसर प्रदान करने और उन्हे आत्म-निर्भर व सशक्त वनाने के लिए नाबार्ड योजना को लागू किया गया है| जिसके जरिये सरकार दवारा देश के ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे लोगों को डेयरी फॉर्म को व्यवस्थित करने के लिए बहुत कम ब्याज दर पर बैंक द्वारा लोन दिया जाता है| जिसकी सहायता से लाभार्थीयो को अपना व्यवसाय स्थापित करने मे मदद मिलेगी और उनकी आय मे भी सुधार होगा| कैसे मिलेगा योजना का लाभ, योजना के लिए कौन-कौन पात्र हैं और इसके अंतर्गत आवेदन कैसे किया जाएगा| ये सारी जानकारी लेने के लिए आपको ये आर्टीकल अंत तक पढना होगा| तो आइए जानते हैं – नाबार्ड योजना के वारे मे|

Nabard Dairy Farming Yojana

Nabard Dairy Farming Yojana 2024

देश के ग्रामीण क्षेत्रो मे रहने वाले नागरिको को रोजगार से जोड़ने के लिए नाबार्ड योजना को शुरू किया गया है| जिसके जरिये डेयरी फार्मिंग को व्यवस्थित करने के लिए देश के ग्रामीण क्षेत्रो के नागरिको को सरकार द्वारा कम ब्याज दर पर लोन दिया जाएगा । ये लोन लाभार्थीयो को बैंको द्वारा प्रदान किया जायेगा । इससे लोगो को व्यापार को चलाने मे मदद मिलेगी और देश मे रोजगार के अवसर वढेगें| इस योजना से दूध के उत्पादन को बढ़ावा दिया जाएगा| दूध उत्पादन से लेकर गाय या भैंसों की देखरेख, गायों की रक्षा के लिए, घी निर्माण आदि सब कुछ मशीन-आधारित होगा। योजना को सही ढंग से चलाने के लिए पशुपालन के अलावा मत्स्य पालन विभाग की सहायता ली जाएगी । इस योजना का लाभ लाभार्थी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करके प्राप्त कर सकते हैं|

Nabard Dairy Farming Yojana का अवलोकन

योजना का नामनाबार्ड डेयरी फार्मिंग योजना
किसके दवारा शुरू की गईभारत सरकार दवारा
लाभार्थीदेश के नागरिक 
प्रदान की जाने वाली सहायता

कम ब्याज दर पर लोन प्रदान करना 

आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन / ऑफलाइन 
आधिकारिक वेबसाइटhttps://www.nabard.org/

नाबार्ड डेयरी फार्मिंग योजना लेटेस्ट अपडेट

कोरोना वायरस से देश किसानो को जो नुकसान पहुचा है, उसकी भरपाई करने के लिए देश की वित् मंत्री निर्मल सीतारमण जी दवारा नाबार्ड योजना के अंतर्गत नई घोषणा की है | जिसमे उन्होने कहा है कि इस योजना के अंतर्गत देश के किसानो को 30,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त पुनर्वित्त सहायता दी जाएगी | जो नाबार्ड योजना के 90 हजार करोड़ रुपए के अलावा होगी। योजना के माध्यम से मिलने वाला पैसा कोऑपरेटिव बैंक के जरिए सरकारों को दिया जाएगा। जिसका फायदा देश के 3 करोड़ किसानों को पहुचेगा|

नाबार्ड डेयरी फार्मिंग योजना के तहत मिलने वाली सब्सिडी  

  • योजना के तहत मिल्क प्रोडक्ट्स बनाने की यूनिट की शुरुआत करने के लिए लाभार्थी को सब्सिडी प्रदान की जाएगी|
  • अगर आप कोई 13.20 लाख रुपए की मशीनरी खरीदते हैं तो इसमे आपको 13.30 लाख रुपए की कैपिटल सब्सिडी मिलेगी और SC/ ST कैटेगरी के लोगों के लिए 4.40 लाख रुपए की सब्सिडी उपलब्ध कराई जाएगी|
  • नाबार्ड के DDAM से मिली जानकारी के अनुसार योजना की राशि बैंक द्वारा अनुमोदित की जाएगी और 25% लाभार्थी द्वारा ली जाएगी। यदि आप नाबार्ड योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो लाभार्थी बैंक में जाकर इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • यदि आप 05 गायों के तहत डेयरी शुरू करना चाहते हैं तो, आपको उनकी लागत का सबूत देना होगा। उसके लिए सरकार दवारा आपको 50% सब्सिडी प्रदान की जाएगी। किसानों को 50% अलग-अलग किस्तों में बैंक को भुगतान करना होगा।

Nabard Dairy Farming Yojana

Nabard Dairy Yojana के तहत मिलने वाली सहायता

इस योजना के जरिए लाभार्थियों को अलग-अलग योजना के आधार पर सहायता प्रदान की जाएगी | जिसका विवरण इस प्रकार से है – 

1. पहली योजना लाल सिन्धी, साहिवाल, राठी, गिर इत्यादि जैसी देसी दूध देने वाली गायें/ हाइब्रिड गायें/ 10 दुधारू पशुओं जेसे के भैंसों के लिए छोटे डेयरी यूनिट की स्थापना करना

(a) निवेश – कम से कम 2 पशुओं से लेकर अधिकतम 10 वर्षों तक की डेयरी खोलने के लिए – 10 जानवरों की डेयरी के लिए 5,00,000/- रुपए

(b) मिलने वाली सब्सिडी – 10 पशु डेयरी पर  25% (SC / ST किसानों के लिए रूपरेखा 33.33%), पूँजी सब्सिडी सीमा, 1.25 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति से संबंधित किसानों के लिए 1.67 लाख रुपये)। अधिकतम अनुमति पूँजी सब्सिडी 2 पशु इकाई के लिए 25000 रुपये है (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति किसानों के लिए 33,300 रुपये)।

2. दूसरी योजना बछिया बछड़ों के पालन – 20 बछड़ों के लिए ऊपर – पार नस्ल, स्वदेशी मवेशियों और वर्गीकृत भैंसों दुधारू नस्लों का विवरण

(a) निवेश – 20 बछड़ों इकाइयों के लिए 80 लाख – 5 बछड़ों के न्यूनतम इकाई आकार और 20 बछड़ों की अधिकतम सीमा के साथ ।

(b) मिलने वाली सब्सिडी – 20 बछड़ों तक की यूनिट खोलने के लिए 25% तक की सब्सिडी लाभार्थी को दी जाएगी | यह सब्सिडी 1,25,000/- रुपए तक की पूंजी पर दी जाएगी| वही SC/ST कैटेगरी के लोगों को 1,60,000/- रुपए तक की पूंजी मिलेगी| कैटेगरी के लोगों को सब्सिडी में 33.33% तक मिलेगें| राशि के हिसाब से अधिकतम 30,000/- रुपए की सब्सिडी, 5 बछड़े की यूनिट खोलने पर दी जाएगी| वही कैटेगरी के लोगों के लिए यह सब्सिडी की राशि 40,000/- रुपए तय की गई है|

3. तीसरी योजना – वर्मीकंपोस्ट और खाद (दुग्ध पशुओं के साथ इकाई के साथ नहीं जोड़ा जायेगा।

(a) निवेश – 20,000 रुपये तक

(b) दी जाने वाली सब्सिडी – इस योजना के अंतर्गत अगर कोई व्यक्ति  4.50 लाख रुपए का निवेश करता है तो उसे 25% तक की सब्सिडी मिलेगी। वही अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के आवेदक को 6 लाख रुपए तक की पूंजी पर 33.33% की सब्सिडी दी जाएगी|

4. चौथी योजना – दूध परीक्षकों/ दूध निकालने की मशीनों पर खरीद/ अधिक मात्रा में दूध होने पर उसे ठंडा रखने के लिए फ्रिज (जिसकी क्षमता 2000 लीटर तक हो)।

(a) निवेश – इसमें व्यक्ति को 18 लाख रुपए तक का निवेश करना होगा ।

(b) दी जाने वाली धनराशि – 4.50 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति किसानों के लिए 6.00 लाख रुपये) की पूँजी सब्सिडी के तहत व्यय का 25% (अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजाति किसानों के लिए 33.33%)।

5. पांचवी योजना स्वदेशी दूध उत्पादों का उत्पादन करने के लिए डेयरी प्रसंस्करण के उपकरण की खरीद ।

(a) निवेश – इस योजना के लिए, लाभार्थी को न्यूनतम 12 लाख रुपये का निवेश करना होगा।

(b) दी जाने वाली धनराशि योजना के अंतर्गत व्यक्ति को 3,00,000/- रुपए तक की पूंजी लोन के तहत दी जाएगी | जिस पर उसे 25% की सब्सिडी मिलेगी| वही अगर व्यक्ति अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति से संबंध रखता है, तो उसे 4,00,000/- रुपए तक की पूंजी मिलेगी | जिस पर उसे 33.33% की सब्सिडी दी जाएगी|

6. छठी योजना – डेयरी उत्पाद परिवहन सुविधाएँ और शीत श्रृंखला स्थापना

(a) निवेश – इस योजना को शुरू करने के लिए देश के लोगो को न्यूनतम राशि 24 लाख रुपये की आवश्यकता होगी|

(b) मिलने वाली सब्सिडी – परियोजना में निवेश करने के लिए सरकार द्वारा अधिकतम 7,50,000/- रुपए तक का लोन दिया जाएगा| इस लोन पर व्यक्ति को 25% की सब्सिडी मिलेगी| SC/ST जाति से संबंध रखने वाले व्यक्तियों को 10 लाख रुपए तक का लोन मिलेगा, जिस पर उन्हें 33.33% की सब्सिडी भी प्रदान की जाएगी|

7. सातवीं योजना दूध और दुग्ध उत्पादों के लिए शीत भंडारण सुविधा।

(a) निवेश –इस योजना के माध्यम से देश के ग्रामीण क्षेत्र के लोगो को कम से कम 30 लाख रुपये निवेश करना होगा।

(b) मिलने वाली सब्सिडी – इस योजना के अंतर्गत चिकित्सालय खोलने पर किसी भी व्यक्ति को कुल खर्च का 25% हिस्सा संस्कार द्वारा दिया जाएगा| वही मोबाइल होने पर सरकार द्वारा 45,000/- रुपए की सब्सिडी, और स्थिर होने पर 60,000/- रुपए तक की सब्सिडी प्रदान की जाएगी | अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के आवेदकों को कुल खर्च का 33.33% हिस्सा सरकार द्वारा प्रदान होगा| चिकित्सालय मोबाइल होने की स्थिति में लाभार्थी को अधिकतम 80,000/- रुपए एवं स्थिर होने की स्थिति में 60,000/- रुपए तक की सब्सिडी की राशि दी जाएगी |

8. आठवीं योजना -निजी पशु चिकित्सा क्लिनिक की स्थापना

(a) निवेश: आवेदक को मोबाइल क्लिनिक के लिए 2.40 लाख रुपये और स्थिर क्लिनिक के लिए 1.80 लाख रुपये का निवेश करना होगा।

(b) मिलने वाली धनराशि – व्यय का 25% (अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजाति किसानों के लिए 33.33%)। 45,000 / – और 60,000 / – रुपये की पूंजी सब्सिडी (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति किसानों के लिए 80,000 / – रुपये और 60,000 / -) मोबाइल और स्थिर क्लीनिक के लिए।

9. नवी योजना – डेयरी मार्केटिंग आउटलेट / डेयरी पार्लर

(a) निवेश – इस योजना के माध्यम से लाभार्थी को 56000/- रुपये की निवेश राशि की आवश्यकता होगी|

(b) नाबार्ड सब्सिडी: योजना के अंतर्गत पूँजी सब्सिडी विषय व्यय के लिए 25% या 14,000/- रुपये (SC/ ST किसानों के लिए 33.33%) की सीमा के रूप में समाप्त होने पर – (अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजातियों के लिए 18600/- रुपये)। 

नाबार्ड योजना का मुख्य उद्देश्य

  1. स्व-रोजगार पैदा करके डेयरी क्षेत्र के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवाना |
  2. लोगों को बिना ब्याज के लोन देना, ताकि वे अपना व्यवसाय आसानी से चला सकें|
  3. इससे दूध के उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा जिससे देश मे बेरोजगारी को खत्म किया जा सकेगा|
  4. किसानों पर आई आपदा को कम करना और उन्हें राहत पहुंचाना है।
  5. सरकार द्वारा किसानों की आय बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर कार्य करना|

Nabard Dairy Farming Yojana के अंतर्गत लोन देने वाली संस्थाएं

  • व्यवसायिक बैंक
  • राज्य सहकारी बैंक
  • क्षेत्रीय बैंक
  • राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक
  • अन्य संस्थान जो नाबार्ड से पुनर्वित्त के लिए पात्र हैं|

नाबार्ड योजना के पात्र लाभार्थी

  1. असंगठित क्षेत्र
  2. उद्यमी
  3. कंपनियां
  4. किसान
  5. गैर सरकारी संगठन
  6. संगठित समूह

नाबार्ड डेयरी फार्मिंग योजना के लिए पात्रता

  • नाबार्ड योजना के अंतर्गत किसान, व्यक्तिगत उद्यमी, गैर-सरकारी संगठन, कंपनियां, असंगठित और संगठित क्षेत्र समूह आदि पात्र होगें|
  • योजना के तहत एक व्यक्ति एक बार ही लाभ उठा सकेगा|
  • इस योजना के अंतर्गत एक ही परिवार के एक से अधिक सदस्यों को सहायता प्रदान की जा सकती है और इसके लिए, उन्हें अलग-अलग जगहों पर विभिन्न आधारभूत संरचनाओं के साथ अलग-अलग इकाइयों की स्थापना हेतु मदद मिलेगी। इस तरह की दो परियोजनाओं के बीच की दूरी कम से कम 500 मीटर निर्धारित की गई है|
  • एक व्यक्ति इस योजना के तहत सभी घटकों के लिए सहायता प्राप्त करने के लिए पात्र होगा| लेकिन प्रत्येक घटक के लिए केवल एक बार योजना का लाभ लिया जा सकेगा|

Nabard Dairy Yojana के लिए जरूरी दस्तावेज

  1. आधार कार्ड
  2. स्थायी प्रमाण पत्र
  3. जाति प्रमाण पत्र
  4. आय प्रमाण पत्र
  5. बैंक खाता
  6. पासपोर्ट साइज फोटो
  7. मोबाइल नम्वर   

Nabard Dairy Farming Yojana Registration

इस योजना के लिए आवेदन ऑनलाइन व ऑफलाइन मोड के जरिये किया जा सकता है –

ऑनलाइन आवेदन 

Nabard Dairy scheme

Nabard Dairy Yojana online

  • इस पेज मे आपको अपनी योजना के आधार पर डाउनलोड PDF के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा ।ऐसा करने से आपके सामने योजना का पूरा फॉर्म खुलकर आएगा|
  • आपको इस फॉर्म मे दी गई सारी जानकारी भरने के बाद सबमिट के बटन पे किलक कर देना है|
  • इस तरह आपके दवारा योजना के अंतर्गत सफलतापूर्वक आवेदन कर दिया जाएगा|

ऑफलाइन आवेदन

  • आवेदन करने के लिए सबसे पहले, आपको ये सुनिश्चित करना होगा, कि आप किस प्रकार का डेयरी फॉर्म खोलना चाहते हैं।
  • यदि आप नाबार्ड योजना के तहत डेयरी फार्म की शुरुआत करना चाहते हैं, तो आपको अपने जिले के नाबार्ड ऑफिस में जाना होगा।
  • यदि आप छोटा डेयरी फॉर्म खोलना चाहते हैं तो, इसके लिए आपको अपने नजदीकी बैंक में जाकर आवेदन कर सकते हैं|
  • बैंक में जाने के बाद आपको सब्सिडी फॉर्म को भर कर उसमें अप्लाई करना होगा।
  • उसके बाद ही आपको योजना का लाभ मिलेगा|

Nabard Dairy Farming Yojana – टेन्डर प्रक्रिया

  • सवसे पहले लाभार्थी को आधिकारिक वेबसाइट पे जाना होगा|
  • अब आपको Tender के विकल्प पे किलक करना होगा| 

Nabard Dairy Yojana tender

  • उसके बाद आप अगले पेज मे आ जाओगे|
  • अब आपको साल और महीने का चयन करना है|
  • सारी जानकारी का चयन करने के बाद आपको “CLICK HERE TO VIEW ARCHIVES OF TENDERS” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा|
  • उसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलके आएगा, जिसमे आपको टेंडर से सम्बन्धित जानकारी मिल जाएगी|

पब्लिकेशन देखने की प्रक्रिया  

  • सवसे पहले लाभार्थी को आधिकारिक वेबसाइट पे जाना होगा| 
  • अब आपको Publication के विकल्प पे किलक करना होगा

Nabard Dairy Yojana publication

  • उसके बाद आपको इस पेज मे Department, Year and Month का चयन करना है|
  • अब आपको दी गई जानकारी भरने के बाद GO के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • जैसे ही आप GO के विकल्प पर क्लिक करोगे तो सवनिध्त जानकारी आपके कंप्यूटर स्क्रीन पे आ जाएगी|

Nabard Dairy Farming Yojana Helpline Number

  • 022-26539895/96/99
  • Email Id- webmaster@nabard.org

Gramin Bhandaran Subsidy Yojana

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेट और लाइक जरुर करें।   

Last Updated on January 5, 2024 by Abinash