Updated : Feb 01, 2020 in Yojana

क्या है कोरोना वायरस | पूरी जानकारी | कैसे बचें

क्या है कोरोना वायरस | What is coronavirus

 

कोरोना वायरस लेटिन भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ है क्राउन। दऱअसल इस वायरस के ऊपर क्राउन की तरह कई कीलें होती हैं। इसलिए इसे कोरोना वायरस कहा जाता है। पशुओं में यह वायरस पाया जाता है। इस वायरस को वैज्ञानिक जूनैटिक नाम से भी पुकारते हैं इसका अर्थ होता है पशुओं से मनुष्य में फैलने वाला वायरस। यह वायरस संक्रमित व्यक्ति के छींकने या खांसने से हवा में फैलता है। संक्रमित व्यक्ति को छूने और हाथ मिलाने से भी यह वायरस दूसरे व्यक्ति को अपनी चपेट में ले लेता है।

लक्षण | Symptoms

नाक बहना, सिर दर्द, खांसी, गले में खराश दर्द, बुखार, तबीयत ठीक का खराव रहना। बुजुर्ग बच्चों और ऐसे लोग जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है उनके लिए यह वायरस खतरनाक हो सकता है। ऐसे में इन लोगों को न्यूमोनिया और दमा भी हो सकता है।

कौन-कौन से देश कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं | Which countries have been affected by the corona virus

कोरोना वायरस की शुरुआत चीन देश से हुई है, जहां इस वायरस के कहर से मरने वालों की संख्या अब तक 212 के पार पहुंच चुकी है, जिससे निमोनिया के अब तक 8000 से अधिक पुष्ट मामले सामने आए हैं। जविक चीन से बाहर 18 देशों में कोरोना वायरस के 82 मामलों की पुष्टि हुई है। थाईलैंड में 14, जापान में 11, सिंगापुर में 10, दक्षिण कोरिया में चार, ऑस्ट्रेलिया और मलेशिया में सात-सात, अमेरिका और फ्रांस में पांच-पांच , जर्मनी और संयुक्त अरब अमीरात में चार-चार और कनाडा में कोरोना के तीन मामलों की पुष्टि हो चुकी है। तिब्बत को छोड़कर चीन के सभी प्रांत कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। भारत में भी कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। एक रिपोर्ट के अनुसार भारत के केरल राज्य में एक छात्र के मेडिकल रिपोर्ट में पुष्टि हुई है कि वह इस वायरस का शिकार है। जिससे पूरे भारत में इस वायरस से लोग काफी भयभीत हैं। सरकार ने इस वायरस से निपटने के लिए एक बैठक बुलाई है, जहां इस वायरस से लडने के लिए महत्वपूर्ण योजना वनाई जा रही है। ताकि इस वायरस से किसी व्यकित की मौत न हो।

बचाव के उपाय | Preventive measures

आयुष मंत्रालय दवारा 28 जनवरी 2020 को जानकारी दी गई है कि होमियोपैथी दवा आर्सेनिकम एल्बम 30 को कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ रोगनिरोधी दवा के रूप में अपनाया जाएगा। आर्सेनिकम एल्बम 30 की एक डोज, जो प्रतिदिन खाली पेट में तीन दिनों के लिए इस्तेमाल की जाएगी। खुराक को एक महीने के बाद फिर दोहराया जाएगा। ताकि इस खतरनाक वायरस से लोगों की जान को वचाया जा सके। इसके अलावा विशेषज्ञ समूह ने सलाह दी है कि रोग की रोकथाम के लिए जनता का भी सजग होगा जरुरी है। अपने हाथ बार बार साबुन और पानी से धोएं। बिना धुले हाथ से आंख, नाक और मुंह को न छुएं। बीमार लोगों से संपर्क करने से बचें। हैंड सेनिटाइजर हमेशा अपने पास रखें। ट्रेन-बस में यात्रा के बाद हाथ साफ किए बिना अपने चेहरे व मुंह पर न लगाएं। अपनी नाक और मुंह को कवर करके रखें। सी-फूड का सेवन न करें। साफ-सफाई का विशेष ध्यान दें। यदि आप अस्वस्थ महसूस कर रहे हों तो ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ लें और घर पर रह कर ही आराम करें। समय- समय पर चिकित्सक की सलाह लेते रहें।

कोरोना वायरस से लडने के लिए उपयोगी यूनानी दवाएं | Unani drugs useful to fight the corona virus

  • शरबतउन्नाब 10-20 मिली दिन में दो बार
  • तिर्यकअर्बा 3-5 ग्राम दिन में दो बार
  • तिर्यक नजला 5 ग्राम दिन में दो बार
  • खमीरा मार्वारिद 3-5 ग्राम दिन में एक बार
  • स्कैल्प और छाती पर रोगन बाबूना / रोगन मॉम / कफूरी बाम से मालिश करें
  • नथुने में रोगन बनाफशा लगाएं
  • अर्क अजीब 4-8 बूंद ताजे पानी में लें और दिन में चार बार इसका इस्तेमाल करें
  • बुखार होने की स्थिति में हब ए एकसीर बुखार 2 की गोलियां गुनगुने पानी के साथ दिन में दो बार लें।
  • 10 मिली शरबत नाजला 100 मिली गुनगुने पानी में दो बार रोजाना पिएं।
  • क़ुरस ए सुआल की 2 गोलियां प्रतिदिन दो बार चबाएं
  • शरबत खाकसी के साथ-साथ निम्नलिखित एकल यूनानी दवाओं के अर्क का सेवन करना बहुत उपयोगी है|
  • अगर आवेदक वताई गई सावधानी अपनाएगा और दी गई दवाई का नियमित सेवन करेगा तो इस वायरस के खतरे से निजात मिल सकती है।

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!